Saturday , 19 June 2021

पर्यटन को बढ़ावा: हिमाचल की तर्ज पर खजुराहो के पांच गांवों में विलेज होम स्टे

भोपाल (Bhopal) . ग्रामीण पर्यटन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से छतरपुर जिले के पांच गांवों में विलेज होम स्टे बनाए जा रहे हैं. ग्रामीण संस्कृति को करीब से जानने के इच्छुक देशी-विदेशी पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए इस योजना पर काम किया जा रहा है. ग्रामीण पर्यटन सैलानियों के बीच खासा लोकप्रिय है. सैलानियों को ग्रामीण क्षेत्र में होम स्टे के जरिये प्रकृति के करीब रहने का मौका मिलेगा. यहां वे भारतीय ग्रामीण संस्कृति से भी रूबरू हो सकेंगे. इसके अलावा ग्रामीणों के लिए रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे.

संपत्ति का नहीं बदलेगा स्वरूप

विलेज होम स्टे योजना के तहत सैलानियों के लिए आवास समेत अन्य सुविधाएं मुहैया करोन वाले लोगों की संपत्ति का स्वरूप आवासीय ही रहेगा. विलज होम स्टे योजना के नोडल अधिकारी लखन असाटी ने बताया कि जिले के पांच गांवों में होम स्टे बनाए जा रहे हैं.

इन पांच गांवों से होगी शुरुआत

राजपुर ब्लॉक के रामनगर, चंदनपुरा और नौगांव ब्लॉक के ग्राम गोरा में होम स्टे के लिए आवास बनाए जा रहे हैं. मालूम हो कि कई देशों में होम स्टे योजना बेहद लोकप्रिय है. मप्र शासन ने भी वर्ष 2010 में देशी एवं विदेशी पर्यटकों के लिए बेड एंड ब्रेेकफास्ट योजना शुरू की थी. अब इस योजना पर नए सिरे से काम किया जा रहा है.

पर्यटकों के लिए आचार संहिता

– व्यवहार और आचरण अच्छा रखना होगा. वह ऐसी किसी गतिविधियों में शामिल नहीं होगा जो शांति भंग करने वाली हो.
– उसकी गतिविधियों से अन्य अतिथियों की निजता अथवा अधिकार प्रभावित नहीं होते हों.
– वह स्वतंत्र किचन संचालित नहीं करेगा.
– अतिथि के तौर पर रुकने के दौरान आवास को क्षतिग्रस्त नहीं करेगा. क्षति होती है तो उसे उसकी क्षतिपूर्ति करना होगी.
– परिसर को साफ एवं स्वच्छ रखने में वह भवन स्वामी को पूर्ण सहयोग करेगा.
– वह किसी व्यक्ति को रात्रि में स्व्यं के साथ इकाई में रुकने की अनुमति नहीं देगा.

Please share this news