Wednesday , 1 April 2020
कोरोना: देश की जनता कर रही दूसरे देशो जैसी गलती !

कोरोना: देश की जनता कर रही दूसरे देशो जैसी गलती !


नई दिल्ली (New Delhi) . देश के 32 राज्यों के 560 जिलों में कोरोना (Corona virus) के बढ़ते प्रसार को रोकने के लिए लॉकडाउन (Lockdown) किया गया है. देश में इस वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 500 के पार है जबकि 10 लोगों की मौत हो चुकी है, लेकिन भारत की जनता इसे मजाक में ले रही है. इसका नजारा सोमवार और मंगलवार को लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान देखने को मिला.

सोमवार को देश के जिन जिलों में लॉकडाउन (Lockdown) है, वहां बाजार में बड़ी संख्या में लोग बाहर घूमते और बाजार में खरीदारी करते दिखे. इससे कई जिलों में लॉकडाउन (Lockdown) बेअसर दिख रहा है. भारत में लोग कोरोनावायरस और लॉकडाउन (Lockdown) को बहुत हल्के में लेते हुए दिखाई दे रहे हैं. ऐसे लोग न अपनी परवाह कर रहे हैं, न ही दूसरों की. इससे पहले रविवार को जनता कर्फ्यू (Public curfew) के दौरान गुजरात, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों में यह देखने में आया कि कुछ लोग शाम को पांच बजते ही सड़कों पर आ गए. वे जुलूस की शक्ल में बाहर निकलकर थाली, घंटी और शंख बजाने लगे. कुछ जगहों पर तिरंगा भी फहराया गया. जबकि पीएम मोदी ने जनता कर्फ्यू (Public curfew) सोशल डिस्टेंसिंग के लिए लगाने की अपील की थी. ऐसा यूरोप के कई देशों में देखने में आया था.

जब वहां की जनता ने लॉकडाउन (Lockdown) का मजाक बनाया था. अब वे इसका खामियाजा भुगते रहे हैं. जर्मनी में युवा लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान पार्टियां कर रहे थे और बुजुर्गों का मजाक उड़ा रहे थे. उनकी लापरवाही का नतीजा है कि जर्मनी में कोरोना (Corona virus) के 28 हजार से ज्यादा मामले आ चुके हैं और करीब दो हजार लोगों की मौत हो चुकी है. फ्रांस में भी लॉकडाउन (Lockdown) है. इसके बावजूद लोग मस्ती करने बीच पर निकल रहे थे. वायरस को फैलने से रोकने के लिए वे न तो लॉकडाउन (Lockdown) को मान रहे थे और न ही डॉक्टरों की सलाह को.