Friday , 14 May 2021

एक हजार रुपये के चालान के आदेश के बाद भी लोग नहीं पहन रहे मास्क


मैनपुरी. बसों में बिना मास्क पहने ही कर रहे लोग यात्रा. किशनी जानलेवा तथा लाइलाज महामारी (Epidemic) कोरोना से जहां देश में कोहराम मचा हुआ है. शासन और प्रशासन लोगों से मास्क पहनने तथा उचित दूरी बना कर चलने की सलाह दे रहे हैं. अखबार तथा टीवी चैनलों पर कोरोना के कहर की ही खबरें सुनने को मिल रहीं है. पर अभी भी लोग कोरोना से बचाव के लिये कोई प्रयास अपनी ओर से नहीं कर रहे है. अभी भी लोग बडी संख्या में बिना मास्क के ही बाजार तथा बस स्टैंड पर घूम रहे हैं.जब बिना मास्क पहिने बस में बैठे यात्रियों (Passengers) से पूछा कि आप मास्क क्यों नहीं पहिने हो तो उन्होंने अपनी जेब से मास्क निकाल पर पहन लिया और मुस्करा कर दिखा दिया. किसी ने खीरा खाने तो किसी ने मूंगफली खाने का बहाना बना दिया. बस यात्रियों (Passengers) के अलाबा बस कन्डक्टर तथा चालक भी बिना मास्क लगाये ही ड्यूटी करते दिखे. सदर बाजार में भी दुकानदार तो मास्क का प्रयोग कर रहे है. पर ग्राहक अभी भी बिना मास्क के ही खरीदारी करने आ रहे है. यह दुकानदार की मजबूरी है कि ग्राहम को बिना टोके सामान पकडा दे. अन्यथा ग्राहक बुरा मानकर दूसरी दुकान की राह पकड सकता है. यदि यही हाल रहा तो वह दिन दूर नहीं जब हर ब्यक्ति कोरोना (Corona virus) के संक्रमण से संक्रमित नजर आयेगा और कोई भी किसी की मदद करने को आगे नहीं आपायेगा. आज भी लोग सिर्फ पुलिस (Police) द्वारा चालान काटने से बचने को ही मास्क का प्रयोग कर रहे हैं. प्रशासन को चाहिये कि अब समझाने का समय निकल चुका है. अब सख्ती दिखानी ही पडेगी.

Please share this news