हमारे प्रधानमंत्री छोटी जोत वाले किसानों के ‘प्रधान सेवक’ हैं: मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर – Daily Kiran
Thursday , 9 December 2021

हमारे प्रधानमंत्री छोटी जोत वाले किसानों के ‘प्रधान सेवक’ हैं: मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर

 

नई दिल्ली (New Delhi) . प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) (Prime Minister Narendra Modi) ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से विशेष गुणों वाली फसलों की 35 किस्में राष्ट्र को समर्पित कीं. प्रधानमंत्री ने राष्ट्रीय जैविक तनाव प्रबंधन संस्थान, रायपुर (Raipur) (Raipur) का नवनिर्मित परिसर भी राष्ट्र को समर्पित किया. इस अवसर पर प्रधानमंत्री ने कृषि विश्वविद्यालयों को ग्रीन कैंपस अवार्ड भी वितरित किए. उन्होंने उन किसानों के साथ बातचीत की, जो नवोन्मेषी तरीकों का उपयोग करते हैं तथा सभा को भी संबोधित किया. प्रधानमंत्री ने जम्मू (Jammu) और कश्मीर (Jammu and Kashmir) के गांदरबल की जैतून बेगम से उनके द्वारा उपयोग की जा रही नयी कृषि पद्धतियों को सीखने की यात्रा, उनके द्वारा दूसरे किसानों को दिया प्रशिक्षण और घाटी में बालिका-शिक्षा के लिए काम करने के प्रति उनके समर्पण के बारे में बातचीत की. पीएम मोदी ने कहा कि खेलों में भी जम्मू-कश्मीर की लड़कियां अच्छा प्रदर्शन कर रही हैं. उन्होंने कहा कि छोटी जोत वाले किसानों की जरूरतें सरकार की प्राथमिकता में हैं और उन्हें सभी लाभ, सीधे प्राप्त होते हैं. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के बुलंदशहर (Bulandshahr) के एक किसान और बीज उत्पादक कुलवंत सिंह के साथ बातचीत करते हुए, प्रधानमंत्री ने पूछा कि वह कैसे विभिन्न प्रकार के बीजों का उत्पादन करते हैं. प्रधानमंत्री ने पूछा कि पूसा के कृषि संस्थान में वैज्ञानिकों के साथ बातचीत से उन्हें क्या फायदा हुआ और ऐसे संस्थानों के साथ संपर्क में रहने को लेकर किसानों में क्या रुझान है. प्रधानमंत्री ने अपनी फसलों के प्रसंस्करण और मूल्यवर्धन करने के लिए किसान की प्रशंसा की. प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार बाजार तक पहुंच, अच्छी गुणवत्ता वाले बीज, मृदा स्वास्थ्य कार्ड जैसी कई पहल के माध्यम से किसानों को अच्छी कीमत दिलाने के लिए प्रयास कर रही है. प्रधानमंत्री ने बारदेज, गोवा की रहने वाली श्रीमती दर्शना पेडनेकर से पूछा कि वह किस प्रकार विविध फसलों की खेती और विभिन्न पशुओं का पालन-पोषण कर रही हैं. उन्होंने श्रीमती दर्शना से उनके द्वारा नारियल की फसल में किए गए मूल्यवर्धन के बारे में पूछा. उन्होंने इस बात को लेकर खुशी व्यक्त की कि कैसे एक महिला किसान एक उद्यमी के रूप में नई ऊंचाइयां हासिल कर रही हैं. प्रधानमंत्री ने मणिपुर के थोइबा सिंह के साथ बातचीत करते हुए, सशस्त्र बलों में सेवा देने के बाद खेती का काम संभालने के लिए उनकी सराहना की. थोइबा की विविध गतिविधियों जैसे कृषि, मत्स्य पालन और अन्य संबद्ध गतिविधियों ने प्रधानमंत्री को प्रभावित किया. प्रधानमंत्री ने उन्हें जय जवान-जय किसान-जय विज्ञान का उदाहरण बताते हुए उनकी प्रशंसा की.

Check Also

एसकेएम की पांच सदस्यीय समिति की हो सकती हैं शाह और तोमर से मुलाकात

नई दिल्ली (New Delhi) . संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) की पांच सदस्यीय समिति बुधवार (Wednesday) …