Saturday , 11 April 2020
विपक्षी दलों ने तंज कसते हुए कहा, योगी को अपनी कथनी का पालन करके आदर्श स्थापित करना चाहिए था

विपक्षी दलों ने तंज कसते हुए कहा, योगी को अपनी कथनी का पालन करके आदर्श स्थापित करना चाहिए था

लखनऊ. कोरोना महामारी की रोकथाम के लिए पूरे देश में लॉकडाउन के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बुधवार को अयोध्या जाकर दर्शन-पूजन करने पर विपक्षी दलों ने तंज कसते हुए कहा कि योगी को अपनी कथनी का पालन करके आदर्श स्थापित करना चाहिए था. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को अयोध्या जाकर रामलला का दर्शन-पूजन किया था. उत्तर प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता अमरनाथ अग्रवाल ने इसपर कहा, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और स्वयं मुख्यमंत्री योगी ने भी लॉकडाउन की घोषणा के साथ ही कहा था कि लोग मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारे और अन्य पूजा स्थलों पर जाने के बजाय घर में ही पूजा-पाठ और इबादत करें. ऐसे में योगी को मंदिर जाकर पूजा अर्चना करने से बचना चाहिए था.’’ उन्होंने कहा, ‘‘सरकार खुद कह रही है कि लोग मंदिर ना जाएं. ऐसे में मुख्यमंत्री स्वयं इसका उल्लंघन कर रहे हैं. बेहतर होता अगर वह अपने आवास पर ही पूजा-अर्चना कर आदर्श स्थापित करते.’’ समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने कहा कि मुख्यमंत्री स्वयं नियम तोड़ रहे हैं? उन्होंने कहा कि योगी जनता से कह रहे हैं कि वह मंदिर मस्जिद न जाए, देश में फैली महामारी के हालात में यह वाजिब अपील है, लेकिन उन्हें खुद भी इसे मानना चाहिए था. आम आदमी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सभाजीत सिंह ने भी इस मुद्दे पर सवाल उठाते हुए कहा कि जो जिम्मेदार लोग जनता से अपील कर रहे हैं, वह खुद ही उसे नहीं मान रहे. उन्होंने कहा, ‘‘मुख्यमंत्री द्वारा पूजा-अर्चना के दौरान चाहे जितनी एहतियात बरती गई हो लेकिन फिर भी वहां लोग इकट्ठा हुए होंगे. मुख्यमंत्री का कार्यक्रम होने के नाते बड़ी संख्या में अधिकारी भी इकट्ठा हुए होंगे. बेहतर होता अगर मुख्यमंत्री इस कार्यक्रम को टाल देते.’’