निज्जर की हत्या पर ऑस्ट्रेलियाई खुफिया प्रमुख ने कहा, ट्रूडो के दावे पर ‘विवाद का कोई कारण नहीं’

मेलबर्न, 19 अक्टूबर . ऑस्ट्रेलिया के खुफिया प्रमुख ने कहा है कि इस साल जून में सिख अलगाववादी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या में भारत सरकार की भूमिका के कनाडाई पीएम जस्टिन ट्रूडो के दावे पर “विवाद करने का कोई कारण नहीं” है.

भारत ने आरोप से इनकार किया है, लेकिन दोनों देशों के बीच इसको लेकर राजनयिक विवाद पैदा हो गया

ऑस्ट्रेलियाई सुरक्षा खुफिया संगठन (एएसआईओ) के महानिदेशक माइक बर्गेस ने एबीसी न्यूज चैनल को बताया कि “यह एक गंभीर आरोप है” और उनके पास “इस मामले में कनाडाई सरकार ने जो कहा है उस पर विवाद करने का कोई कारण नहीं है”.

उन्होंने कहा, “इसमें कोई संदेह नहीं है कि किसी भी देश पर उस देश के नागरिक की हत्या का आरोप लगाया जा रहा है, यह एक गंभीर आरोप है, और कुछ ऐसा है जो हम नहीं करते हैं और कुछ ऐसा है जो नहीं करना चाहिए.”

बर्गेस ने ये टिप्पणी कैलिफ़ोर्निया में की. वो यहां फ़ाइव आइज़ ख़ुफ़िया साझेदारों की एक सार्वजनिक सभा में मौजूद थे. इसके सदस्य देशों में ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका, ब्रिटेन, कनाडा और न्यूज़ीलैंड हैं.

ख़ुफ़िया प्रमुख ने इस बात की पुष्टि नहीं की कि सभा में इस मुद्दे पर चर्चा की गई या नहीं, लेकिन एक राष्ट्रीय सुरक्षा सूत्र ने एबीसी को बताया कि बर्गेस को पिछले महीने नई दिल्ली में जी20 शिखर सम्मेलन से पहले इस मामले पर जानकारी दी गई थी.

न्यूयॉर्क टाइम्स ने पिछले महीने रिपोर्ट दी थी कि अमेरिकी खुफिया एजेंसियों ने जानकारी दी जिसके बाद कनाडा ने निज्जर की हत्या के लिए भारत को जिम्मेदार ठहराया.

ट्रूडो ने भारत से जांच में सहयोग करने का आह्वान किया और कहा था कि उन्होंने अपने दावों को सार्वजनिक करने से पहले भारत के साथ हत्या के सबूत साझा किए थे.

जब बर्गेस से पूछा गया कि क्या ऑस्ट्रेलिया भारतीय एजेंटों का अगला निशाना हो सकता है, तो उन्होंने कहा, “यह यहां होगा या नहीं, मैं अटकलें नहीं लगाऊंगा, मुझे नहीं लगता कि यह उचित है.”

उन्होंने एबीसी से कहा, “मैं आपको आश्वस्त कर सकता हूं कि जब हम पाएंगे कि दूसरे देश की सरकार हमारे देश में हस्तक्षेप कर रही है, या हमारे देश में हस्तक्षेप करने की योजना बना रही है, तो हम उनसे प्रभावी ढंग से निपटेंगे.”

ऑस्ट्रेलिया में भी खालिस्तान का खतरा है. इसी साल करीब आधा दर्जन हिंदू मंदिरों पर एक के बाद एक हमले किए गए. अकेले जनवरी महीने में, 12 से 23 तारीख के बीच, मेलबर्न में तीन हिंदू मंदिरों को खालिस्तानी समर्थकों ने निशाना बनाया.

इस साल जनवरी में प्रतिबंधित खालिस्तान संगठन सिख फॉर जस्टिस (एसएफजे) द्वारा जनमत संग्रह के आह्वान के दौरान मेलबर्न के फेडरेशन स्क्वायर में भारतीयों पर लाठियों से हमला किया गया था.

ऑस्ट्रेलिया में करीब 210,000 से अधिक सिख हैं और 2021 तक ऑस्ट्रेलिया की आबादी का 0.8 प्रतिशत हिस्सा है, जो देश का पांचवां सबसे बड़ा और सबसे तेजी से बढ़ने वाला धार्मिक समूह है.

Check Also

काशी की तर्ज पर सीरगोवर्धन का दिख रहा नया स्वरूपः मुख्यमंत्री योगी

वाराणसी, 23 फरवरी . उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सीरगोवर्धन का …