किसानों का अहिंसक सत्याग्रह आज भी अखंड:राहुल गांधी – Daily Kiran
Sunday , 28 November 2021

किसानों का अहिंसक सत्याग्रह आज भी अखंड:राहुल गांधी

नई दिल्ली (New Delhi) . कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने केन्द्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों के ‘भारत बंद’ का सोमवार (Monday) को समर्थन किया और कहा कि किसानों का अहिंसक सत्याग्रह अखंड है. संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने नए कृषि कानूनों के एक साल पूरा होने पर इस बंद को बुलाया है. किसान संगठन चाहते हैं कि सरकार तीन नए कृषि कानूनों को तुरंत वापस ले. गांधी ने ट्वीट किया, “किसानों का अहिंसक सत्याग्रह आज भी अखंड है,लेकिन शोषण करने वाली सरकार को ये नहीं पसंद है, इसलिए आज भारत बंद है.” गौरतलब है कि कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे संयुक्त किसान मोर्चा ने पांच सितंबर को मुजफ्फरनगर (Muzaffarnagar) र की किसान महापंचायत में 27 सितंबर को ‘भारत बंद’ का एलान किया था.

भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा है कि तीन कृषि कानूनों के वापस लिए जाने तक वह अपना आंदोलन समाप्त नहीं करेंगे. कांग्रेस समेत विभिन्न विपक्षी दलों ने किसानों के भारत बंद का समर्थन किया है. भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी), भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी, ऑल इंडिया फॉरवर्ड ब्लॉक, रिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी जैसी वामपंथी पार्टियों ने भारत बंद को अपना समर्थन दिया है. कांग्रेस, आम आदमी पार्टी, समाजवादी पार्टी, तेलुगु देशम पार्टी, जनता दल (सेक्युलर), बहुजन समाज पार्टी, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, द्रविड़ मुनेत्र कड़गम जैसे कई अन्य दल ने भी सोमवार (Monday) को भारत बंद के आह्वान का समर्थन किया है. एसकेएम नेता राकेश टिकैत ने कहा कि सभी व्यापारियों और दुकानदारों को बंद का समर्थन करना चाहिए, उन्होंने ये भी कहा कि रास्ते बंद रहेंगे, लेकिन अगर कोई डॉक्टर (doctor) के क्लीनिक जाना चाहता है तो जा सकता है. एंबुलेंस, सब्जी और दूध के वाहन चलेंगे. उन्होंने कहा, ‘हम बंद के दौरान दिल्ली के अंदर नहीं जाएंगे. ये आम लोगों का आंदोलन है. लोगों को एक दिन की छुट्टी लेनी चाहिए और चार बजे के बाद ही घर से बाहर निकलना चाहिए.’

Check Also

पोर्नोग्राफी केस में राज कुंद्रा को झटका

नई दिल्ली (New Delhi) . अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी के पति और बिजनेसमैन राज कुंद्रा की …

. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .