वाहनों के हाइपोथिकेशन टर्मिनेशन के लिए अब नहीं लगाने होंगे चक्कर – Daily Kiran
Saturday , 23 October 2021

वाहनों के हाइपोथिकेशन टर्मिनेशन के लिए अब नहीं लगाने होंगे चक्कर

नई दिल्ली (New Delhi) . राजधानी दिल्ली में 31 अक्टूबर के बाद से वाहनों के हाइपोथिकेशन के लिए बैंक (Bank) जाने और भौतिक रूप से दस्तावेज जमा करने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी. दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने वाहनों के हाइपोथिकेशन टर्मिनेशन (एचपीटी) प्रक्रिया को और आसान व पारदर्शी बनाने के लिए बुधवार (Wednesday) को दिल्ली में वाहनों की खरीदारी के लिए ऋण प्रदान करने वाले सभी प्रमुख बैंकों और वित्तीय संस्थानों के साथ एक बैठक की. परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने बैठक में यह सुनिश्चित करने के निर्देश जारी किए कि 31 अक्टूबर के बाद हाइपोथिकेशन जोड़ने और समाप्ति के संबंध में कोई भौतिक दस्तावेज नहीं लिया जाएगा. बैंकों और ऋण देने वाली संस्थाओं को आधार कार्ड से जुड़े मोबाइल नंबर पर प्राप्त ओटीपी के माध्यम से सभी दस्तावेजों और एनओसी को सॉफ्टवेयर के माध्यम से डिजिटल रूप से जमा करना होगा. जिससे भौतिक हस्ताक्षर की आवश्यकता न पड़े. ऑटोमैटिक एचपीटी के लिए पहले ही आईसीआईसीआई बैंक (Bank) के साथ भागीदारी थी. वाहनों की खरीद के लिए ऋण लेने वाले 7800 से अधिक आवेदकों का डेटा प्राप्त किया है. लेकिन नवंबर महीने की शुरुआत से किसी भी वित्तीय संस्थान से वाहन ऋण प्राप्त करने वाले किसी भी आवेदक को एचपीटी के लिए बैंक (Bank) जाने और भौतिक रूप से कोई दस्तावेज जमा करने की भी जरूरत नहीं होगी. एक बार जब ऋण दे दिया जाएगा या भुगतान कर दिया जाता है. तो डेटा सीधे बैंक (Bank) द्वारा वाहन डेटाबेस में स्थानांतरित कर दिया जाएगा. परिवहन विभाग एचपीटी सेवा को सत्यापित और अनुमोदित करने में सक्षम करेगा. इस बैठक में परिवहन मंत्री ने बैंकों को ई-हस्ताक्षर के माध्यम से आधार आधारित प्रमाणीकरण की अनुमति देने का भी निर्देश दिया. बता दें कि दिल्ली में परिवहन विभाग द्वारा 11 अगस्त को फेसलेस सुविधा शुरू की गई थी. इसके तहत वाहनों के ड्राइविंग टेस्ट और फिटनेस टेस्ट को छोड़कर विभाग की 33 सेवाओं को पूरी तरह से फेसलेस कर दिया गया है. एचपीटी में वाहन ऋण पर हाइपोथिकेशन को जोड़ना, जारी रखना और समाप्त करना शामिल है. परिवहन विभाग की सबसे अधिक उपयोग की जाने वाली सेवाओं में से एक है. फेसलेस सेवाओं की शुरुआत के बाद से दिल्ली में एचपीटी के लिए 7111 आवेदन प्राप्त हुए हैं. इससे पहले एक आवेदक को ऋण के पुनर्भुगतान के बाद हाइपोथिकेशन की समाप्ति के लिए आवेदन करना होता था. इसके तहत आवेदक को फॉर्म 35 और बैंक (Bank) से एनओसी लेकर 90 दिनों के भीतर विभाग में जमा करना होता था.

Please share this news

Check Also

ममता के वित्तमंत्री को आरोप, डर के कारण 6 साल में 35,000 कारोबारी देश छोड़कर जा चुके

कोलकाता (Kolkata) .बंगाल की ममता सरकार में वित्त मंत्री अमित मित्रा ने मोदी सरकार पर …