इज़राइल-हमास संघर्ष का बाजार के सेंटीमेंट पर नकारात्मक प्रभाव

नई दिल्ली, 19 अक्टूबर . बोनांजा पोर्टफोलियो के रिसर्च एनालिस्ट वैभव विदवानी ने कहा है कि वैश्विक बाजार का अनुसरण करते हुए निफ्टी गिरावट के साथ बंद हुआ. अधिकांश सेक्टरोल इंडेक्स में भी गुरुवार को गिरावट देखी गई.

निफ्टी मेटल में 0.88 फीसदी की गिरावट रही. उन्होंने कहा कि इजराइल-हमास संघर्ष, एफआईआई की बिकवाली और प्रमुख कंपनियों की दूसरी तिमाही के खराब नतीजे बाजार के सेंटीमेंट्स पर नेगेटिव इंपैक्ट डाल रहे हैं.

निफ्टी पर विप्रो, टेक महिंद्रा, यूपीएल, भारती एयरटेल और हिंडाल्को इंडस्ट्रीज नुकसान में रहे, जबकि मुनाफे में रहने वाले शेयरों में बजाज ऑटो, एलटीआईमाइंडट्री, नेस्ले इंडिया, हीरो मोटोकॉर्प और अल्ट्राटेक सीमेंट शामिल रहे.

मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के रिटेल रिसर्च प्रमुख सिद्धार्थ खेमका का कहना है कि निफ्टी गिरावट के साथ खुला, लेकिन कुछ नुकसान से उबरने में कामयाब रहा और अंत में 46 अंकों की गिरावट के साथ 19,625 पर बंद हुआ.

ऑटो, एफएमसीजी और कंज्यूमर ड्यूरेबल आज प्रमुख मुनाफे में रहे. गुरुवार देर रात यूएस फेड चेयर जेरोम पॉवेल का भाषण बाजार के लिए महत्वपूर्ण ट्रिगर होगा. यह भविष्य में ब्याज दर में बढ़ोतरी पर कुछ स्पष्टता प्रदान करेगा.

इसके साथ ही मध्य पूर्व में बढ़ते तनाव के कारण बाजार का सेंटीमेंट नरम रहेगा. उन्होंने कहा, ”इसलिए हम निवेशकों को निकट अवधि में सतर्क रहने की सलाह देते हैं.”

डालमिया भारत और अल्ट्राटेक ने अच्छा प्रदर्शन किया. यहां तक कि बजाज ऑटो ने अच्छी संख्या दर्ज की. उन्होंने कहा, ”हमें उम्मीद है कि सीमेंट और ऑटो सेक्टर फोकस में रहेंगे.”

Check Also

भारत ने पहली बार समुद्र के रास्ते अमेरिका को किया अनार का निर्यात

नई दिल्ली, 1 मार्च . कृषि और प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (एपीडा) के …