Wednesday , 2 December 2020

15 दिनों के लिए नानावती अस्पताल शिफ्ट होंगे वरवर राव, पत्नी की याचिका पर सुनवाई के दौरान बॉम्बे हाईकोर्ट का आदेश

मुंबई (Mumbai) . एल्गार परिषद-माओवादी संबंध मामले में जेल में बंद कवि-कार्यकर्ता वरवर राव को 15 दिनों के लिए मुंबई (Mumbai) के नानावती अस्पताल में रखा जाएगा. बॉम्बे हाईकोर्ट ने बुधवार (Wednesday) को उनकी पत्नी की याचिका पर सुनवाई के दौरान यह आदेश दिया. उनकी ओर से दलील देते हुए, वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंग ने कहा कि 80 वर्षीय वरवर राव को जेजे अस्पताल में सिर में चोटें आई थीं. जयसिंग ने कहा, ‘वह (वरवर राव) पूरी तरह से बिस्तर पर हैं और कोई मेडिकल अटेंडेंट नहीं है. वह डायपर में हैं और उन्हें कैथेटर लगा है.

कैथेटर को तीन महीने तक नहीं बदला गया क्योंकि इसे बदलने वाला कोई नहीं था. उन्होंने कहा कि मेरी आशंका है कि वह (वरवर राव) हिरासत में मर जाएंगे. उन्होंने कहा, ‘राज्य लापरवाही कर रहा है. यदि राज्य देखभाल करने में असमर्थ है, तो उन्हें नानावती अस्पताल में स्थानांतरित करने की आवश्यकता है. राव (81) इस समय विचाराधीन कैदी के तौर पर नवी मुंबई (Mumbai) की तलोजा जेल में बंद हैं. राव ने जमानत अर्जी दाखिल की थी और रिट याचिका दाखिल कर अनुरोध किया था कि उन्हें बिगड़ती तंत्रिका संबंधी और शारीरिक स्वास्थ्य संबंधी स्थिति को देखते हुए तत्काल मुंबई (Mumbai) के नानावती अस्पताल में भर्ती कराया जाए.