Friday , 16 April 2021

40वें दिन पहुंचा किसानों का आंदोलन

नई दिल्ली (New Delhi) . तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों की वापस लेने की मांग को लेकर सिंघु बॉर्डर पर चला रहा किसानों का धरना-प्रदर्शन सोमवार (Monday) को 40वें दिन में प्रवेश कर गया है. इसी के साथ किसान सिंघु के साथ टीकरी और दिल्ली-यूपी बॉर्डर पर भी किसान धरने पर बैठे हैं. हालांकि, केंद्र सरकार (Central Government)ने किसानों की कई मांगों पर सहमति जता दी है, लेकिन किसान तीनों कृषि कानूनों को रद कराने की मांग को लेकर अड़े हुए हैं. इसी बीच केंद्र सरकार (Central Government)व किसानों के बीच 30 दिसंबर को हुई बातचीत में गतिरोध टूटने व दो मांगों पर सहमति बनने के बाद सोमवार (Monday) की वार्ता को किसान निर्णायक मान रहे हैं. बैठक को लेकर उत्साहित किसानों का मानना है कि इसमें ज्यादातर मुद्दों पर चर्चा के साथ ही समाधान पर बल दिया जाना चाहिए. अभी तक कड़ाके की ठंड के बीच सिंघु व टीकरी बार्डर पर कई किसानों की मौत हो चुकी है. ऐसे में किसान जल्द से जल्द समस्या का हल निकाले जाने के पक्ष में हैं.

वहीं, भारतीय किसान यूनियन दिल्ली प्रदेश के अध्यक्ष वीरेंद्र सिंह डागर ने बताया कि पिछले दिनों हुई बैठक में सरकार का रुख सकारात्मक रहा और हमारी दो मांगों को मान लिया गया है. ऐसे में सोमवार (Monday) को केंद्र सरकार (Central Government)और किसान सगंठनों के बीच होने वाली वार्ता को लेकर हम सभी उत्साहित हैं और हमें पूरा विश्वास है कि सरकार हमारी अन्य मांगों को भी मानेगी. उन्होंने कहा कि हम सभी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) पर पूरा विश्वास है कि वे किसानों के हित में निर्णय लेंगे. वहीं, टीकरी बॉर्डर पर हरियाणा (Haryana) से आए किसान बलजीत ने बताया कि एक महीने से ज्यादा समय हो गया, लेकिन अभी तक वार्ता से नतीजा नहीं निकला, लेकिन अब लगने लगा है कि जल्द ही सरकार व किसान संगठनों के बीच निर्णायक वार्ता होगी और हम अपने घर लौट सकेंगे.

Please share this news