Tuesday , 20 October 2020

भारत निवेश के लिहाज से दुनिया में सबसे बेहतर देश, आर्थिक क्षेत्र में किए दूरगामी सुधार: मोदी

नई दिल्ली (New Delhi) . प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुनिया के निवेशकों को आमंत्रित करते हुए कहा कि भारत दुनिया में निवेश के लिए सबसे बेहतर स्थान है. उन्होंने कहा कि कंपनियां निवेश के लिए जिस तरह का भरोसा और नीतियों में अनुकूलता चाहतीं हैं वह सब भारत में उपलब्ध है. वीडियो कांफ्रेन्सिंग के जरिऐ अमेरिका-भारत रणनीतिक भागीदारी मंच को संबोधित करते हुए उन्होंने अपनी सरकार (Government) की तरफ से सुधारों की दिशा में उठाये गये कदमों और कोयला, खनन, रेलवे (Railway)समेत विभिन्न क्षेत्रों में अवसरों का जिक्र किया.

पीएम मोदी ने जोर देकर कहा कि भारत एक मजबूत लोकतांत्रिक और विविधता वाला देश है और हाल के महीनों में दूरगामी सुधार किए गए हैं. मंच का पांच दिवसीय सम्मेलन 31 अगस्त से शुरू हुआ. इसका विषय ‘अमेरिका-भारत के सामने मौजूद नई चुनौतियां’ है.

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत निवेश के लिहाज से सर्वाधक अनुकूल देश है. उन्होंने कहा, ‘महामारी (Epidemic) ने दुनिया को दिखाया है कि वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला के विकास का फैसला सिर्फ लागत के आधार पर नहीं लिया जाना चाहिए. वे भरोसे पर भी आधारित होने चाहिए. कंपनियां अब भौगोलिक क्षेत्र की सामर्थ्य के साथ ही विश्वसनीयता और नीतिगत स्थायित्व पर भी विचार कर रही हैं.’ उन्होंने कहा भारत ऐसी जगह है, जहां ये सभी विशेषताएं हैं. उन्होंने कहा इन्हें देखते हुए भारत विदेशी निवेश के लिए सबसे अनुकूल स्थलों में से एक के रूप में उभर रहा है.
मोदी ने कहा चाहे अमेरिका हो या खाड़ी देश, चाहे यूरोप हो या आस्ट्रेलिया- दुनिया हम पर विश्वास करती है. इस साल हमें 20 अरब डॉलर (Dollar) का विदेशी निवेश प्रवाह हासिल हुआ है.’ उन्होंने कहा कि भारत में एफडीआई 2019 में 20 प्रतिशत बढ़ा है, वो भी तब जब वैश्विक एफडीआई में एक प्रतिशत की गिरावट आई है और ये हमारी एफडीआई व्यवस्था की सफलता को दिखाता है.प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार (Government) ने कारोबार को आसान बनाने और लालफीताशाही को कम करने के लिए दूरगामी सुधार किये हैं. उन्होंने कहा हमारे लिए आगे की राह अवसरों से भरी हुई है. उन्होंने कृषि क्षेत्र में सुधारों के साथ-साथ मोबाइल और इलेक्ट्रॉनिक्स, चिकित्सा उपकरणों, फार्मा क्षेत्रों के लिए शुरू की गई उत्पादन संबद्ध प्रोत्साहन योजनाओं का भी जिक्र किया.