Wednesday , 1 April 2020
कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों का उपचार कर रहे मेडिकल स्टाफ के साथ दुर्व्यवहार गलत – मनोज तिवारी

कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों का उपचार कर रहे मेडिकल स्टाफ के साथ दुर्व्यवहार गलत – मनोज तिवारी

नई दिल्ली. दिल्ली भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने देशवासियों से लॉक डाउन के दौरान न घबराने और जरूरी सामानों को खरीदने को लेकर दुकानों पर भीड़ न लगाने की अपील करते हुए कहा कि कोरोना महामारी के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए देशवासियों के हित में ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 21 दिन के लिए देश को लॉक डाउन करने का निर्णय लिया गया जिसके बाद कई युवा व नागरिक सख्त निर्देश के बाद भी बाजारों में अपने वाहनों को लेकर निकलते दिखे.

आज हम कोरोना वायरस के रूप में एक वैश्विक महामारी का सामना कर रहे हैं. कोरोना महामारी से जंग को जीतने के लिए देशभर में व्यापक तैयारी की जा रही है ताकि प्रत्येक व्यक्ति की सुरक्षा की जा सके लेकिन ऐसे में किसी भी प्रकार की लापरवाही से स्वास्थ्य संबंधी तैयारियां फेल हो जाएंगी.  मेरी सभी से यही प्रार्थना है कि प्रधानमंत्री द्वारा कही गई बातें को नजरअंदाज ना करें और 21 दिनों के लिए लॉक डाउन में रहे और निर्देशों का पालन करें जिससे आप और आपका परिवार कोरोना महामारी से सुरक्षित रहेगा. रोजमर्रा की जिंदगी में लोगों को कोई असुविधा ना हो इसके लिए निरंतर प्रयास किया जा रहा है.

सरकार के पास सब्जियों, दूध, दवाओं आदि जैसी आवश्यक वस्तुओं का पर्याप्त भंडार है इसीलिए पैनिक बाईंग न करें. एक बार फिर से सभी से यह अपील है आप की और आपके परिवार की सुरक्षा के लिए आप अपने घरों से बाहर न निकलें और सामाजिक दूरी बनाए रखें. चाहे कुछ भी हो जाए अपने घर में रहें. कोरोना से बचने के लिए इससे बेहतर कोई तरीका नहीं है. तिवारी ने कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की सेवा में लगे लोगों के साथ गलत व्यवहार पर दुख जताते हुए कहा कि ये जानकारी मिल रही है.

जो लोग दिन-रात अपनी सेहत की चिंता किए बगैर ही कोरोना से लड़ाई लड़ रहे हैं उन्हें ही कॉलोनियों में घुसने से रोका जा रहा है, मकान मालिकों द्वारा उन्हें घर छोड़ने को कहा जा रहा है. यह बहुत ही दुखद है, उनके साथ ऐसा व्यवहार गलत है. हमें उनका सम्मान करना चाहिए. यह लोग आपके बच्चों और परिवार के लिए अपनी जान दांव पर लगा रहे हैं.