Saturday , 19 June 2021

सरकार के जारी दिशा-निर्देशों का पालन नहीं करने वाले लोगों पर सख्ती भी बरती जा रही: मंत्री सत्येंद्र जैन

नई दिल्ली (New Delhi) . दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने बढ़ते कोरोना के केस के संबंध में कहा कि एक सप्ताह तक हमें चेक करना पड़ेगा कि इसके बाद क्या होता है, क्योंकि सही आंकलन करने में एक सप्ताह लग जाते हैं. दिल्ली के अंदर तीन-चार महीने तक कोरोना की स्थिति बहुत अच्छी थी और सभी लोग कोविड को लेकर जारी दिशा-निर्देशों का अच्छी तरह से पालन कर रहे थे.

पिछले 10-15 दिनों से लग रहा है कि लोग दिशा- निर्देशों का पालन करने में लापरवाही बरत रहे हैं. इसलिए दिल्ली सरकार सभी लोगों से दिशा-निर्देशों का पालन करने की अपील करने के साथ उन पर सख्ती भी बरत रही है. सभी को मास्क लगाना बेहद जरूरी है. अगर ज्यादातर लोग मास्क लगाकर सार्वजनिक स्थानों पर निकलते हैं, तो इससे कोविड को बहुत अच्छी तरह से नियंत्रित किया जा सकता है. एक साल की जद्दोजहद के बाद सभी ने समझ लिया है कि सार्वजनिक स्थानों पर जाने के दौरान मास्क लगाना सबसे ज्यादा जरूरी है. मैं दिल्ली के लोगों से पुनः अपील भी करना चाहता हूं कि दिल्ली में अब तक 10 लाख से अधिक लोगों ने वैक्सीन लगवा ली है. परन्तु वो लोग भी अगर सार्वजनिक स्थानों पर जाते हैं, तो मास्क जरूर लगाएं. बिना मास्क लगाए, वो भी घर से बाहर न निकलें.

स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि ट्रेन और फ्लाईट के माध्यम से बाहर से दिल्ली आने वाले लोगों की जांच में भी गंभीरता बरती जा रही है. हमने रेलवे (Railway)स्टेशन और एयरपोर्ट पर रैंडम टेस्टिंग शुरू करा दी है. दिल्ली देश की राजधानी है. इसलिए दिल्ली के लोग भी बाहर जाते हैं और बाहर से भी लोग दिल्ली आते हैं. ऐसे केस सामने आए हैं कि कोई दिल्ली से पंजाब (Punjab) गया और वापस आए, तो वो कोरोना पाॅजिटिव पाए गए. कई लोग महाराष्ट्र (Maharashtra) से दिल्ली आए, तो वो कोरोना पाॅजिटिव पाए गए. इस तरह के केस सामने आ रहे हैं.

दिल्ली में अचानक केस बढ़ने के संबंध में स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि कोरोना आसानी से खत्म नहीं हो रहा है. हमारा भी शुरू से ही यही कहना रहा है कि यह मान कर हमें नहीं चलना चाहिए कि यह एकदम से खत्म हो जाएगा. इसे पूरी तरह से खत्म होने में लंबा समय लग सकता है. लोग दो-तीन महीने सिद्दत से मास्क लगाते हैं और उसके बाद मास्क लगाना छोड़ देते हैं. यह नहीं पता है कि कोरोना (Corona virus) का व्यवहार किस समय कैसा होगा? लेकिन जिस समय मौसम में बदलाव हो रहा है, उस समय कोरोना के केस एकदम से बढ़ रहे हैं. जब सर्दी आई थी, तब केस बढ़े थे और गर्मी आई थी, तब बढ़े और अब फिर गर्मी आ रही है, तो केस बढ़ रहे हैं. फिर भी केस बढ़ने का कोई ठोस कारण अभी तक पता नहीं चल पाया है. लेकिन केस बढ़ने के जो भी कारण हों, उससे बचाव का तरीका हम सभी को पता चल चुका है और हमें उन सभी बचाव के उपायों का शत प्रतिशत पालन करना चाहिए. सत्येंद्र जैन ने कहा कि प्राइवेट अस्पतालों की मनमानी को रोकने के लिए सरकार ने पहले ही दिशा- निर्देश दिए थे, जो आज भी लागू हैं. सरकार ने प्राइवेट अस्पतालों में इलाज के रेट तय कर दिया है. इससे ज्यादा शुल्क प्राइवेट अस्पताल नहीं ले सकते हैं. दिल्ली में सार्वजनिक स्थानों पर होली मनाने पर रोक लगाई गई है और इसका अनुपालन कराने के लिए दिल्ली सरकार टीमें बना रही है. यह टीमें दिशा-निर्देशों का उल्लंघन करने वालों पर कार्रवाई करेगी.

दिल्ली सरकार की तरफ से मैं दिल्ली निवासियों से अपील भी करना चाहता हूं कि होली हम सभी के पवित्र त्योहारों में से एक हैं. सभी लोग होली का त्योहार खुशी पूर्वक मनाएं, लेकिन कोविड की वजह से सभी लोग यह त्योहार अपने घर के अंदर ही मनाएं. यह सभी त्योहार अगले साल दोबारा आएंगे. सार्वजनिक रूप से अगले साल इन त्योहारों को मना लेंगे. दरअसल, होता यह है कि जब 40-50 लोग एक साथ मिलते हैं और सभी एक-दूसरे के काफी नजदीक रहे हैं, तो उसमें अगर दो लोग भी कोरोना पाॅजिटिव हैं, तो सभी 50 लोग भी पाॅजिविट हो जाएंगे. इसलिए ऐसे कार्यक्रम का आयोजन न करें, जिसकी वजह से अचानक कोरोना का विस्फोट हो. सभी लोग होली का पर्व खुशी से मनाएं, लेकिन अपने परिवार में ही मनाएं. होली का त्योहार कोई सार्वजनिक तौर पर न मनाए, इस पर निगरानी रखने के लिए सभी जिलों के जिलाधिकारियों को टीम गठित करने के निर्देश दिए गए हैं. सभी जिलाधिकारी टीमें गठित कर रहे हैं. अगर कोई निर्देशों का उल्लंघन करना पाया जाएगा, तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी.

स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन कहा कि वैक्सीनेशन में एक दिक्कत यह आ रही थी कि लोगों को वैक्सीनेशन से पहले अपना पंजीकरण कराना पड़ता था. बहुत सारे लोग अपना पंजीकरण नहीं करा पाते हैं और अगर वे पंजीकरण करा भी लेते हैं, तो उन्हें वैक्सीन लगाने का जो दिन दिया जाता है, उस दिन वो किसी काम में व्यस्त होने की वजह से नहीं पहुंच पाते हैं और उन्हें वैक्सीन नहीं लग पाती है. अब सरकार ने इसमें बदलाव कर दिया है.

अब शाम 3 बजे से रात 9 बजे तक यानि 6 घंटे तक कोई भी बिना पंजीकरण कराए ही वैक्सीनेशन कराने के लिए जा सकता है. इससे पहले, वैक्सीनेशन का समय सुबह 9 से शाम 5 बजे तक था, जिसे बढ़ा कर सुबह 9 से रात के 9 बजे यानि 12 घंटे तक का कर दिया गया है. ताकि लोग अपनी सुविधा के अनुसार वैक्सीन लगवाने के लिए जा सकें. अभी तक यह होता था कि ज्यादातर लोग आॅफिस में काम करते हैं. उनकी ड्यूटी सुबह से शाम 6 बजे तक होती है. रविवार (Sunday) को अवकाश होता है, तो उस दिन दिल्ली में वैक्सीनेशन नहीं होता है. इसलिए ऐसे लोगों को वैक्सीनेशन का सही समय नहीं मिल पा रहा था. हमने समय बढ़ा कर रात 9 बजे तक कर दिया है, ताकि लोग आॅफिस से घर वापस लौटने के दौरान अस्पताल में जाएं और वैक्सीन लगवा सकें. इसके लिए उन्हें कोई पंजीकरण कराने की जरूरत नहीं है. जिस दिन उन्हें समय मिले, उस दिन जाकर वैक्सीन लगवा सकते हैं.

Please share this news