Thursday , 29 July 2021

मंत्री गंगवार ने औद्योगिक श्रमिकों के लिए उपभोक्ता मूल्य सूचकांक से जुड़ा संकलन जारी किया

नई दिल्ली (New Delhi) . केन्द्रीय श्रम एवं रोजगार मंत्री संतोष कुमार गंगवार ने आज औद्योगिकी श्रमिकों के लिए उपभोक्ता मूल्य सूचकांक से जुड़ा संकलन (खंड I-IV, 1945 से 2020) जारी किया. मंत्री संतोष गंगवार ने कहा कि सात दशकों से अधिक समय तक के सीपीआई-आईडब्ल्यू पर ऐतिहासिक आकड़ों के डिजिटलीकरण और संकलन के रूप में प्रस्तुति इस विषय पर आकड़ों की कमी को दूर करेगी और यह मूल्य सूचकांक या अन्य आंकड़ों का संकलन करने वाली अन्य एजेंसियों के लिए प्रेरणादायी सिद्ध होगा.

उन्होंने कहा कि संकलन अपने तरह का पहला प्रकाशन है और यह ऐसे समय में जारी किया जा रहा है, जब श्रम ब्यूरो अपनी स्थापना का शताब्दी वर्ष मना रहा है. श्रम ब्यूरो, सूचकांक संकलन और श्रम आँकड़ों पर इस देश का अग्रणी सार्वजनिक संस्थान है. इसमें उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) के संकलन पर विस्तृत व व्यापक जानकारी के साथ स्पष्टीकरण शामिल हैं. श्रम ब्यूरो ने 1945 से सूचकांक का संकलन करना शुरू किया. विभिन्न संस्थागत और अन्य हितधारकों के हितों को ध्यान में रखते हुए अपनी स्थापना के बाद से सभी सूचकांक संग्रह को क्रमवार एक संकलन के रूप में प्रकाशित करने की आवश्यकता महसूस की जा रही थी. देश में विशिष्ट उद्देश्यों के लिए कई उपभोक्ता मूल्य सूचकांक श्रृंखलाएं उपलब्ध थीं, और लगभग हर श्रृंखला में समय के साथ संशोधन किये गए थे.

पुराने समय में, प्रकाशित श्रृंखला की पहुंच संबंधित एजेंसियों तक सीमित थी और केवल पूर्ण योग के स्तर पर ही उपलब्ध थी. उपयोगकर्ताओं की मांग को पूरा करने के उद्देश्य से, श्रम ब्यूरो ने 1995 से औद्योगिक श्रमिकों के लिए उपभोक्ता मूल्य सूचकांक पर वार्षिक रिपोर्ट प्रकाशित करना शुरू किया, जिसमें प्रत्येक केंद्र के लिए उपसमूह सूचकांक का विवरण भी उपलब्ध था. इसे आगे बढ़ाते हुए, आधार-वर्ष 1944, 1949, 1960, 1982 और 2001 के लिए औद्योगिक श्रमिकों के सन्दर्भ में सीपीआई पर सभी सूचनाओं को एक साथ, संकलन के रूप में एक स्थान पर लाया गया है, जो शोधकर्ताओं और नीति निर्माताओं के लिए बहुत महत्वपूर्ण सिद्ध होगा.

Please share this news