श्रीनगर के ईदगाह इलाके में आतंकियों ने दिन दहाड़े की गोलीबारी, 2 स्कूल शिक्षकों की मौत – Daily Kiran
Sunday , 28 November 2021

श्रीनगर के ईदगाह इलाके में आतंकियों ने दिन दहाड़े की गोलीबारी, 2 स्कूल शिक्षकों की मौत

श्रीनगर (Srinagar) . जम्मू-कश्मीर की शांति आतंकवादियों को रास नहीं आ रही है. जानकारी के मुताबिक श्रीनगर (Srinagar) के ईदगाह इलाके में गोलीबारी हुई है, जिसमें दो शिक्षकों की मौत हो गई है. अज्ञात हमलावरों ने सफा कदल में स्कूल के प्रिंसिपल और एक महिला टीचर की गोली मारकरहत्या (Murder) कर दी है. आशंका जताई जा रही है कि हमलावर आतंकवादी हो सकते हैं. फिलहाल, सुरक्षाबलों ने इलाके की घेराबंदी कर दी है और तलाशी अभियान चलाया जा रहा है.

श्रीनगर (Srinagar) में गुरुवार (Thursday) को दिन दहाड़े आतंकियों ने दो शिक्षकों कीहत्या (Murder) कर दी. सिख और कश्मीरी पंडित दोनों शिक्षकों की पहचान प्रिंसिपल सतिंदर कौर और शिक्षक दीपक चंद के रूप में हुई है. बताया जा रहा है कि दोनों सफा कदल के अलोचीबाग के रहने वाले थे. गोली लगने के बाद उन्हें घायल हालत में सौरा के एसकेआ अस्पताल ले जाया गया, लेकिन यहां उन्हें डॉक्टरों (Doctors) ने मृत घोषित कर दिया.

एक दिन पहले ही आतंकियों ने कश्मीर में तीन लोगों कीहत्या (Murder) कर दी थी. इनमें श्रीनगर (Srinagar) के बड़े दवा कारोबारी 70 साल के माखन लाल बिंदरू, खाने का स्टॉल लगाने वाले वीरेंद्र पासवान और टैक्सी स्टैंड के अध्यक्ष मोहम्मद शफी लोन का नाम शामिल है. मीडिया (Media) रिपोर्ट्स के मुताबिक, पुलिस (Police) ने बताया कि आतंकियों ने इन तीनोंहत्या (Murder) ओं के महज एक घंटे के भीतर अंजाम दिया था. आतंकियों ने कश्मीरी पंडित बिंदरू को पॉइंट ब्लैंक की रेंज से गोली मारी थी. वहीं, एक अन्य घटना में आतंकियों ने श्रीनगर (Srinagar) में मदीना चौक लालबाजार के पास बिहार (Bihar) के भागलपुर के रहने वाले पासवान को निशाना बनाया था. कश्मीर पुलिस (Police) के मौके पर पहुंचकर आतंकियों की तलाश शुरू कर दी थी. तीसरी घटना में दहशतगर्दों ने उत्तरी कश्मीर के बंदीपोरा जिले में नैदखई के रहने वाले लोन कीहत्या (Murder) की थी.

Check Also

पोर्नोग्राफी केस में राज कुंद्रा को झटका

नई दिल्ली (New Delhi) . अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी के पति और बिजनेसमैन राज कुंद्रा की …

. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .