माइक्रोसॉफ्ट ने साइबर सिक्योरिटी सुरक्षा को आगे बढ़ाने के लिए शुरू की नई पहल

नई दिल्ली, 3 नवंबर . माइक्रोसॉफ्ट ने साइबर सिक्योरिटी सुरक्षा को आगे बढ़ाने और उभरते साइबर खतरे से निपटने के लिए कंपनी में “सिक्योर फ्यूचर इनिशिएटिव” (एसएफआई) नामक एक नई पहल शुरू की है.

इस नई पहल में तीन प्रमुख स्तंभ एआई-बेस्ड साइबर डिफेंस, फंडामेंटल सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में प्रगति और नागरिकों को साइबर खतरों से बचाने के लिए अंतरराष्ट्रीय मानदंडों के मजबूत अनुप्रयोग की वकालत शामिल है.

एआई-बेस्ड साइबर डिफेंस के तहत, टेक जायंट का लक्ष्य साइबर खतरों का तेजी से पता लगाने और प्रतिक्रिया देने के लिए एआई का इस्तेमाल करना है. एडवांस एआई टूल और टेक्निक का इस्तेमाल करके, माइक्रोसॉफ्ट का थ्रेट इंटेलिजेंस सेंटर अपनी विश्लेषण क्षमताओं को बढ़ाएगा.

माइक्रोसॉफ्ट के उपाध्यक्ष और अध्यक्ष ब्रैड स्मिथ ने गुरुवार को एक ब्लॉग पोस्ट में कहा, ”एक कंपनी के रूप में, हम एआई-बेस्ड साइबर शील्ड बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं जो दुनिया भर के ग्राहकों और देशों की सुरक्षा करेगी. एआई-बेस्ड डेटासेंटर का हमारा ग्लोबल नेटवर्क और एडवांस फाउंडेशन एआई मॉडल का उपयोग हमें साइबर सिक्योरिटी सुरक्षा को आगे बढ़ाने के लिए एआई को काम में लाने के लिए एक मजबूत स्थिति में रखता है.”

कंपनी ने कहा, यह सभी ऑर्गेनाइजेशन के लिए मशीन स्पीड से साइबर हमलों को हराने में मदद करने के साथ-साथ उनके जिम्मेदार एआई सिद्धांतों के आधार पर उनकी सर्विस में एआई को सुरक्षित करने के लिए गेम-चेंजर के रूप में एआई का उपयोग करेगी.

स्मिथ ने कहा, “हम मानते हैं कि इन नई एआई टेक्नोलॉजी को अपनी सेफ्टी और सिक्योरिटी उपायों के साथ आगे बढ़ना चाहिए. यही कारण है कि हम अपने जिम्मेदार एआई सिद्धांतों और प्रैक्टिस के आधार पर एआई को अपनी सर्विस में डेवलप कर रहे हैं.”

नई एआई क्षमताओं के अलावा, कंपनी ने कहा कि सुरक्षित भविष्य के लिए बुनियादी सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में नई प्रगति की आवश्यकता होगी.

इसके तहत कंपनी ऑटोमेशन और एआई के साथ सॉफ्टवेयर विकसित करने के तरीके में बदलाव लाएगी.

इस प्रक्रिया के हिस्से के रूप में, अगले साल में, वे कस्टमर्स को आउट-ऑफ-द-बॉक्स मल्टी-फैक्टर ऑथेंटिकेशन (एमएफए) के लिए ज्यादा डिफॉल्ट सेटिंग्स के साथ सक्षम करेंगे, जिससे उनकी वर्तमान डिफॉल्ट पॉलिसी को कस्टमर सर्विस के व्यापक बैंड तक विस्तारित किया जा सकेगा.

नागरिकों को साइबर खतरों से बचाने के लिए मजबूत अंतरराष्ट्रीय मानदंडों के तहत, कंपनी उन रेड लाइन के सार्वजनिक समर्थन की मांग करेगी, जिन्हें सरकारों को पार नहीं करना चाहिए, विशेष रूप से महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचे और क्लाउड सेवाओं के संदर्भ में.

स्मिथ ने कहा, ”इस साल इन मानदंडों का उल्लंघन करने वाले राष्ट्र-राज्य कार्यों के सबूतों की कमी नहीं रही है. अब हमें सरकारों से मजबूत, सार्वजनिक, बहुपक्षीय और एकीकृत प्रयासों की आवश्यकता है जो इन राज्यों को जवाबदेह बनाएगी और उन्हें कदाचार दोहराने से हतोत्साहित करेगी.”

पीके/एबीएम

Check Also

भारत निर्मित आईफोन शिपमेंट 2024 तक वैश्विक स्तर पर 20 प्रतिशत बढ़ सकता है

नई दिल्ली, 2 नवंबर . लीडिंग एनालिस्ट ने कहा है कि बाजार की स्थितियों के …