Thursday , 15 April 2021

प्रदेश ठिठुरा, कई जिले शीतलहर की चपेट में

भोपाल (Bhopal) . मध्य प्रदेश सर्दी ने फिर से सितम ढाना शुरू कर दिया है. पूरे प्रदेश में ठिठुरन बढ़ गई है. सागर सहित प्रदेश के कई जिले शीतलहर की चपेट में हैं. इसी तरह अगले दो-तीन दिन प्रदेश में कड़ाके की ठंड का कहर जारी रहने और फसलों पर पाला पड़ने की आशंका जताई गई है.

cold-wave-mp

पहाड़ों में बर्फबारी के बाद पूरा उत्तर भारत भी शीतलहर की चपेट में आ गया है. मध्य प्रदेश में भी इसका असर दिख रहा है. प्रदेश का लगभग 70 प्रतिशत हिस्सा भीषण ठंड की चपेट में है. पहाड़ों से आ रही सर्द हवाओं से प्रदेश में ठिठुरन ने जोर पकड़ लिया है.

मौसम विज्ञानियों के मुताबिक, MP में एक जनवरी तक ठंड के तेवर तीखे ही बने रह सकते हैं, इस दौरान न्यूनतम तापमान दो डिग्री तक पहुंच सकता है. सोमवार (Monday) से ही हवाओं का रुख उत्तरी हो गया है, जिससे राजधानी भोपाल (Bhopal) समेत पूरे प्रदेश में अधिकतम और न्यूनतम तापमान में गिरावट शुरू हो गई है. सागर, ग्वालियर (Gwalior), चंबल संभाग शीतलहर की चपेट में आ चुके हैं.

भोपाल (Bhopal) सहित प्रदेश के 17 जिलों में रात का तापमान 8 डिग्री से नीचे पहुंच गया है. मंगलवार (Tuesday) को राजधानी भोपाल (Bhopal) और उज्जैन समेत पांच अन्य जिलों में कोल्ड डे रहा. भोपाल (Bhopal) में दिन का तापमान सामान्य से 6 डिग्री नीचे 19.3 डिग्री पर रहा. इंदौर (Indore) और धार में सीवियर कोल्ड डे रहा.

मौसम विशेषज्ञ एके शुक्ला के मुताबिक, जब दिन का तापमान सामान्य से 4.5 से 6.4 डिग्री कम और रात का तापमान 10 डिग्री या इससे कम हो तब कोल्ड डे होता है. दिन का तापमान सामान्य से 6.5 डिग्री या इससे कम हो और रात का तापमान 10 डिग्री या इससे कम हो तब सीवियर कोल्ड डे कहलाता है.

वरिष्ठ मौसम विज्ञानी अजय शुक्ला के मुताबिक, वातावरण में नमी नहीं होने और आसमान साफ होने के कारण धूप निकल रही है, लेकिन लगभग 15 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से चल रही सर्द हवाओं से धूप में भी सिहरन महसूस हो रही है.


Please share this news