भारी पुलिस फोर्स की मौजूदगी किया गया मनीष का अंतिम संस्कार, पत्नी ने रखी सीएम योगी से मिलाने की मांग – Daily Kiran
Sunday , 28 November 2021

भारी पुलिस फोर्स की मौजूदगी किया गया मनीष का अंतिम संस्कार, पत्नी ने रखी सीएम योगी से मिलाने की मांग

 

कानपुर (Kanpur) . कानपुर (Kanpur) में एक प्रॉपर्टी डीलर के लिए काम करने वाले मनीष गुप्ता की गोरखपुर में मौत का मामला गरमाता जा रहा है. अपनी मांगें पूरी नहीं होने तक शव का दाह संस्कार नहीं करने पर अड़े परिवार को पुलिस (Police) ने मनाकर शव की दाह क्रिया करा दी है. दाह संस्कार गुरुवार (Thursday) तड़के भैरो घाट पर किया गया. इस दौरान मौके पर भारी पुलिस (Police) फोर्स और प्रशासन के अधिकारी मौजूद रहे.

इधर, मनीष की पत्नी ने कुछ मांगें रखी हैं. बुधवार (Wednesday) सुबह परिजन मनीष का शव लेकर बर्रा स्थित आवास पहुंचे. राजनीतिक पार्टियों के नेताओं का जमावड़ा लग गया.
नेताओं ने परिवार से मुलाकात कर हरसंभव मदद का भरोसा दिलाया. वहीं मृतक की पत्नी ने कहा था कि जब तक मुख्यमंत्री (Chief Minister) योगी आदित्यनाथ से मुलाकात नहीं हो जाएगी, वह पति का अंतिम संस्कार नहीं करेंगी. इस पर अधिकारियों ने आश्‍वासन दिया है कि गुरुवार (Thursday) को कानपुर (Kanpur) दौरे पर आए सीएम योगी आदित्यनाथ परिवार से मिल सकते हैं. इधर नेताओं और भीड़ के बुधवार (Wednesday) देर रात घर चले जाने के बाद पुलिस (Police) ने अंतिम संस्कार की तैयारियां शुरू कर दीं. गुरुवार (Thursday) तड़के भारी पुलिस (Police) फोर्स तैनात करके सुरक्षा के बीच परिवार और शव को भैरो घाट लाया गया और अंतिम संस्कार कर दिया गया.

मनीष की पत्नी मीनाक्षी ने बताया कि प्रशासनिक अधिकारियों ने उनसे कहा है कि वह शव का सम्मान करें. जो चला गया वह वापस नहीं आएगा. अंतिम संस्कार के बाद उनकी मुलाकात सीएम योगी आदित्यनाथ से करवा दी जाएगी. मीनाक्षी ने कहा कि उनकी सीएम योगी से अभी तक कोई बात नहीं हुई है, लेकिन पुलिस (Police) और प्रशासन के अधिकारियों के कहने पर उन्होंने शव का दाह संस्कार कर दिया है. मीनाक्षी ने कहा कि उनकी मांग है कि मामला फिलहाल कानपुर (Kanpur) ट्रांसफर कर दिया जाए क्योंकि वह बार-बार गोरखपुर भागकर नहीं जा सकती हैं. इसके अलावा वह चाहती है कि उन्हें सरकारी नौकरी दी जाए और हर्जाना दिया जाए. मीनाक्षी ने कहा कि वह इस मामले में CBI जांच नहीं चाहती हैं. इस मामले की जांच एसआईटी टीम से ही कराई जानी चाहिए.

उल्लेखनीय है कि कानपुर (Kanpur) के बर्रा तीन में रहने वाले मनीष गुप्ता (36) एक रियल स्टेट कंपनी के लिए काम करते थे. मनीष परिवार के इकलौते बेटे थे. परिवार में बुजुर्ग पिता पत्नी मीनाक्षी और बेटे अभिराज (4) के साथ रहते थे. मनीष की शादी 8 साल पहले मीनाक्षी से हुई थी. वहीं बेटे कीहत्या (Murder) की खबर सुनकर बुजुर्ग पिता की हालत बिगड़ गई है.
मनीष अपने जिगरी दोस्तों प्रदीप चौहान, हरदीप सिंह के साथ गोरखपुर घूमने के लिए गए थे. मनीष अपने दोस्तों के साथ होटल (Hotel) कृष्णा पैलेस के रूम नंबर 512 में ठहरे थे. आरोप है कि सोमवार (Monday) रात लगभग 12.30 बजे रामगढ़ ताल पुलिस (Police) होटल (Hotel) में चेकिंग करने पहुंची थी. पुलिस (Police) ने रूम का दरवाजा खुलवाया और सभी से आईडी मांगने लगें. आईडी चेक करने के बाद पुलिस (Police) सभी के बैग चेक करने लगी. पुलिस (Police) की हरकत पर मनीष ने कहा कि हम लोग कोई आतंकवादी नहीं हैं, पुलिस (Police) को यही बात नागवार गुजरी. आरोप है कि पुलिस (Police) ने मनीष और उसके दोस्तों को बेरहमी से पीटना शुरू कर दिया. पुलिस (Police) ने मनीष को पीट-पीट कर अधमरा कर दिया. इसी दौरान मनीष की तबियत बिगड़ गई. पुलिस (Police) मनीष को एक प्राइवेट हॉस्पिटल ले गई, गंभीर हालत में मनीष को बीआरडी हॉस्पिटल रेफर कर दिया. पुलिस (Police) ने एंबुलेंस (Ambulances) से मनीष को बीआरडी भेजा जहां उन्‍हें मृत घोषित कर दिया गया. मनीष के परिजनों का कहना है कि उनके शरीर पर गंभीर चोटों के निशान हैं, मनीष को असलहों के नोंक और बटों से पीटा गया था. इस मामले में मीनाक्षी की तहरीर पर 3 नामजद समेत 6 पुलिस (Police) कर्मियों परहत्या (Murder) का केस दर्ज किया गया है. वहीं पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के मुताबिक मनीष की मौत सिर पर चोट लगने की वजह से हुई है.

Check Also

सोनिया के गढ़ में भाजपा की सेंधमारी, बागी विधासक अदिति सिंह भाजपा में शामिल

लखनऊ (Lucknow) . रायबरेली (Bareilly) सदर सीट से कांग्रेस से विधायक चुनी गईं अदिति सिंह …

. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .