खड़गे ने गाजा के अस्पताल पर बमबारी को ‘अनुचित’ बताया, दो-राष्‍ट्र समाधान की बात दोहराई

नई दिल्ली, 19 अक्टूबर . कांग्रेस ने गाजा के अस्पताल और आवासीय इलाकों में हुए बम विस्फोट को “अनुचित और गंभीर मानवीय त्रासदी” बताते हुये गुरुवार को कहा कि इसके लिए जिम्‍मेदार अपराधियों को “जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए”.

कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे, जो राज्यसभा में विपक्ष के नेता भी हैं, ने एक बयान में कहा कि उनकी पार्टी तत्काल युद्धविराम और गाजा के संकटग्रस्त लोगों को मानवीय सहायता उपलब्‍ध कराने का अपना आह्वान दोहराती है और सभी पक्षों से संवेदनहीन हिंसा और युद्ध” का रास्ता छोड़कर बातचीत और कूटनीति की प्रक्रिया शुरू करने का आग्रह करती है ताकि फ़िलिस्तीनी लोगों की आकांक्षाएँ पूरी हों और इज़रायल की सुरक्षा चिंताएँ भी दूर हों.

उन्होंने कहा कि गाजा में अस्पताल और रिहायशी इलाकों पर अंधाधुंध बमबारी के परिणामस्वरूप सैकड़ों निर्दोष पुरुषों, महिलाओं और बच्चों की जान चली गई, यह “अनुचित और गंभीर मानवीय त्रासदी है जिसके लिए अपराधियों को जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए”.

उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने 8 अक्टूबर को इजरायल के लोगों पर हमास द्वारा किए गए क्रूर हमलों की निंदा की थी.

खड़गे ने कहा, “इजरायल के सैन्य बलों द्वारा नागरिक क्षेत्रों में अंधाधुंध कार्रवाई भी अस्वीकार्य है, जिसमें गाजा पट्टी की घेराबंदी और वहां बमबारी की गई है.”

कांग्रेस अध्‍यक्ष ने कहा, “कांग्रेस फिलिस्तीनी लोगों के अधिकारों के लिए अपने दीर्घकालिक समर्थन को दोहराती है. अपने स्वयं के संप्रभु राष्‍ट्र में गरिमा, आत्म-सम्मान और समानता के जीवन के लिए फिलिस्तीनी लोगों की आकांक्षाएं लंबे समय से चली आ रही हैं और पूरी तरह से वैध हैं. इन आकांक्षाओं को नियमित रूप से दबाया और नकारा गया है. लाखों फिलिस्तीनियों को बेदखल और विस्थापित किया गया है. वे डर और भय के माहौल में रह रहे हैं.”

पार्टी नेताओं के एक वर्ग को 8 अक्टूबर का बयान पसंद नहीं आया था. कई लोगों ने कहा था कि पार्टी ने स्पष्ट रूप से फिलिस्तीनी लोगों को अपना समर्थन देने का वादा नहीं किया है, जो कांग्रेस का मूल रुख रहा है.

कांग्रेस कार्य समिति के दौरान 9 अक्टूबर को अपने प्रस्ताव में कांग्रेस ने कहा था: “अंतत:, सीडब्ल्यूसी पश्चिम एशिया में छिड़े युद्ध पर अपनी निराशा और पीड़ा व्यक्त करती है, जहां पिछले दो दिन में एक हजार से अधिक लोग मारे गए हैं.

“सीडब्ल्यूसी फिलिस्तीनी लोगों के भूमि, स्वशासन और गरिमा तथा सम्मान के साथ जीने के अधिकारों के लिए अपने लंबे समय से चले आ रहे समर्थन को दोहराती है. सीडब्ल्यूसी तत्काल युद्धविराम का आह्वान करती है और सभी लंबित मुद्दों पर बातचीत शुरू करने का आह्वान करती है – वे अनिवार्य मुद्दे जिन्होंने वर्तमान संघर्ष को जन्म दिया है.”

एकेजे

Check Also

दिल्ली में जामिया कैंपस में हुई झड़प में 3 घायल

नई दिल्ली, 2 मार्च . जामिया मिलिया इस्लामिया (जेएमआई) परिसर में दो समूहों के बीच …