स्कूल वार्डन की हत्या में निचली अदालत से बरी हुए भाजपा विधायक एसबीपी मेहता को झारखंड हाईकोर्ट का नोटिस

रांची, 10 अक्टूबर . रांची स्थित ऑक्सफोर्ड स्कूल की वार्डन की हत्या के मामले में निचली अदालत से बरी हो चुके भाजपा के विधायक शशिभूषण प्रसाद मेहता की परेशानियां एक बार फिर बढ़ सकती हैं. निचली अदालत के फैसले को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई करते हुए झारखंड हाईकोर्ट ने मेहता सहित एफआईआर में आरोपी रहे सभी छह लोगों को नोटिस जारी किया है.

अदालत इस मामले में 29 नवंबर को सुनवाई करेगी. रांची के चुटिया स्थित ऑक्सफोर्ड स्कूल की वार्डन सुचित्रा मिश्रा की हत्या 11 मई 2012 को हुई थी. हत्या का आरोप स्कूल के डायरेक्टर रहे एसबीपी मेहता सहित छह लोगों पर लगा था. रांची की सिविल कोर्ट ने मामले की लंबी सुनवाई के बाद वर्ष 2019 में मेहता सहित कांड के सभी आरोपियों को निर्दोष करार देते हुए बरी कर दिया था. इसके बाद मेहता वर्ष 2019 में हुए विधानसभा चुनाव में झारखंड के पलामू जिला अंतर्गत पांकी क्षेत्र से भाजपा के टिकट पर विधायक चुने गए.

इस मामले में अब मृतका सुचित्रा मिश्रा के भाई गोविंद पांडेय ने हाईकोर्ट में एक्वीटल याचिका दायर की है, जिसपर आज जस्टिस सुजीत नारायण प्रसाद ने सुनवाई की. उन्होंने एफआईआर में आरोपी रहे सभी आरोपियों को नोटिस जारी करने का निर्देश दिया. बता दें कि इस बहुचर्चित हत्याकांड का खुलासा करते हुए पुलिस ने दावा किया था कि मेहता ने अपने छह साथियों के साथ मिलकर सुचित्रा की हत्या की, ताकि वह उसके साथ वर्षों से चले आ रहे रिश्ते से छुटकारा पा सके.

तत्कालीन एसएसपी साकेत कुमार सिंह ने दावा किया था कि मेहता ने सुचित्रा के साथ अपने अवैध संबंधों को छिपाने के लिए यह कदम उठाया. सुचित्रा मिश्रा जब उस पर शादी के लिए दबाव डालने लगी, तो उसने उसे रास्ते से हटाने का फैसला कर लिया. इसके बाद उसने योजना बनाई और इसमें कुछ लोगों को शामिल किया. ये वो लोग थे, जिन्हें उसने अपने स्कूल में नौकरी देने का वादा किया था. ये सभी पलामू से थे.

एसएसपी के मुताबिक, मेहता ने अपनी तरफ से फुल प्रूफ प्लान बनाया और इस हत्याकांड को अंजाम दिया.

एसएनसी/एसजीके

Check Also

छत्तीसगढ़ में भाजपा ने 2 सांसदों को फिर दिया मौका

रायपुर] 2 मार्च . भारतीय जनता पार्टी ने छत्तीसगढ़ की सभी 11 सीटों के लिए …