Saturday , 28 November 2020

लोकआस्था के महापर्व छठ पर महंगाई की मार


नई दिल्ली (New Delhi) . लोकआस्था का महापर्व छठ आज यानी बुधवार (Wednesday) से शुरू हो रहा है. चार दिन के इस महापर्व पर भी कोरोना संकमण का असर दिख रहा है. फल, बांस और मिट्टी के चूल्हा से बाजार सज चुके हैं, लेकिन हर चीज के दाम पर महंगाई छायी हुई है. पिछले साल की तुलना में कई चीजों के दाम दोगुने हो गये हैं. ऐसे में छठ व्रती के लिए पूजा सामग्री खरीदना काफी कठिन हो रहा है.

कोरोना के कारण पिछले सात महीनों से लोगों की आमदनी घट गई है. ऐसे में छठ व्रती पूजा सामग्री खरीदने में कटौती करने लगे है. बोरिंग रोड की पिंकी कुमारी कहती हैं- पहले गेंहू चार किलो खरीदती थी, इस बार तीन किलो गेंहू के आटे से ही ठेकुआ बनेगा. केला, पानी सिंघारा आदि फलों में भी कटौती करूंगी. बजट बिगड़े नहीं, इसलिए ऐसा करना पड़ रहा है. छठ व्रती सुमन कुमारी कहती हैं- सारी चीजें महंगी हो गई हैं.

इस वजह से खर्च भी बढ़ गया है. पिछले साल जहां पांच से छह हजार रुपए का खर्च आया था, वहीं इस बार सात से दस हजार रुपए खर्च हो रहे हैं. इस बार पिछले साल की तुलना में दो से तीन हजार अधिक खर्च करना पड़ रहा है. अलग-अलग इलाकों में पूजा सामग्री की कीमत अलग-अलग है. मंडी में सामान सस्ता है लेकिन वहीं खुदरा में हर सामान पर दोगुना (guna) दाम लिया जा रहा है. बोरिंग रोड, पाटलिपुत्र, इनकम टैक्स आदि इलाकों की खुदरा दुकान में हर सामान मंडी की तुलना में दोगुनी कीमत पर बेची जा रही है.