Thursday , 3 December 2020

हरित क्रांति के कारण भारत को आत्मनिर्भर बनाने का बीड़ा इंदिरा गांधी ने उठाया था: अनिल कुमार


नई दिल्ली (New Delhi) . भाजपा की केन्द्र में मोदी सरकार द्वारा किसानों के हितों का हनन करने वाले तीन कानून बिना संसद में चर्चा और विचार किए हिटलरशाही के तहत पास किए जाने के विरोध में दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौ. अनिल कुमार के नेतृत्व में आज किसान अधिकार ट्रेक्टर यात्रा दिव्यज्योति आश्रम, झटखोर, बवाना से शुरु होकर औचंदी बार्डर होती हुई बरवाला मेन रोड़ तक निकाली गई. ट्रैक्टर यात्रा पूर्व प्रधानमंत्री, भारत रत्न दिवंगत मती इंदिरा गांधी की जयंती की पूर्व संध्या पर आयोजित की गई थी क्योंकि वह हरित क्रांति की सूत्रधार थीं, जिसने देश में किसानों के बीच उत्साह और एक अतिरिक्त खाद्य उद्यम तैयार किया. केंद्र सरकार (Central Government)(Central Government) के किसान विरोधी काले कानूनों के खिलाफ किसान अधिकार ट्रैक्टर यात्रा में हजारां की संख्या किसान, खेत मजदूर और कांग्रेस कार्यकर्ता शामिल हुए. इस मौके पर यात्रा शुरू करने से पहले किसान भाइयों ने चौ0 अनिल कुमार को पगड़ी पहनाकर सम्मानित किया.

चौ. अनिल कुमार ने केन्द्र सरकार से किसान विरोधी कानून वापस लेने की माँग करते हुए कहा कि ट्रेक्टर यात्रा में मौजूद इन किसानों की भीड़ को देखिए, इनकी आवाज देश की जनता की आवाज है इसको सुनिए, आपको तथा सरकार को किसान विरोधी कानूनों को हर हाल में वापस लेना होगा. उन्होंने कहा कि पूँजीपतियों के हक में कानून बनाने की जगह किसानों के हक में कानून बनाना चाहिए. चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि मोदी सरकार द्वारा किसानों के लिए लाया गया बिल किसान विरोधी है, जिससे किसान बर्बाद हो जाएगा और मोदी सरकार ने इस बिल के द्वारा उत्पाद के न्यूनतम समर्थन मूल्य के साथ प्रतिस्पर्धी कीमतों पर अपने उत्पादों को बेचने की स्वतंत्रता किसानों से छीन ली है मतलब किसान विरोधी काले कानूनों ने किसानों के MSP को खत्म कर दिया है.

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार ने मौजूद किसानों, किसान नेता, कॉंग्रेस कार्यकर्ता सहित दिल्ली के आम जनता को संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी द्वारा चलाए जा रहे किसान विरोधी बिलों के खिलाफ अभियान से केन्द्र सरकार घबराई हुई है उसे अपनी जमीन खिसकती नजर आ रही है इसलिए यही कारण है कि गृहमंत्रालय के अर्न्तगत दिल्ली पुलिस (Police) कांग्रेस पार्टी द्वारा किए जाने वाले विरोध प्रदर्शन पर जबरन रोक लगाती है जबकि भाजपा और आम आदमी पार्टी जब ट्रैक्टर यात्रा या प्रदर्शन करते है तो उन दोनो दलों को रोका नही जाता है, दिल्ली पुलिस (Police) यह एक सोची समझी साजिश के तहत केन्द्र सरकार के इशारे पर कर रही है.

उन्होंने कहा कि केन्द्र की भाजपा सरकार दिल्ली पुलिस (Police) द्वारा दमनकारी नीति अपना कर कांग्रेस पार्टी का विरोध करने के लोकतांत्रिक अधिकार दबाने की कोशिश कर रही है. अनिल कुमार ने कहा कि मैं किसान का बेटा हू और किसानों के अधिकारों के लिए उनके साथ खड़ा रहूगा. उन्होंने कहा कि खुद को गरीब कहने वाले प्रधानमंत्री मोदी जी प्रतिदिन अपनी गरीबी बेचते नजर आते है और करोड़ों का सूट पहन कर अपने चुनिन्दा पूँजीपतियों के हितों की रक्षा के लिए उनके पीछे साथ खड़े रहते है. अनिल कुमार ने कहा कि सीमा पर लड़ने वाला जवान भी किसान का बेटा ही है, जो देश के लिए शहीद होता है. अनिल कुमार ने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री (Chief Minister) अरविंद केजरीवाल हर बात पर विधानसभा का सत्र बुलाते है लेकिन किसान विरोधी बिल के विरोध में विधानसभा सत्र बुलाना तो दूर उसके खिलाफ ढंग से अपनी आवाज़ भी नहीं उठाते.

अनिल कुमार ने कहा कि दिल्ली सरकार ने पिछले वर्ष “मुख्मंत्री किसान मित्र योजना” की घोषणा की थी“ जिसके तहत दिल्ली में लगभग 20,000 किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) का लाभ उठाना था, जो कि केंद्र द्वारा निर्धारित की गई तुलना में अधिक था, लेकिन दिल्ली के किसानों को वास्तव में इस योजना से कोई लाभ नहीं हुआ.

दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अनिल कुमार ने दिल्ली के मुख्यमंत्री (Chief Minister) द्वारा कोविड -19 के बिगड़ते हालत पर कल बुलाई गई सर्वदलीय बैठक का स्वागत करते हुए कहा है की देर आए दूरस्त आए. अनिल कुमार ने कहा की प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष होने के नाते समय समय पर कोविड महामारी (Epidemic) पर जनता की सेवा करते रहे है और सरकार से जनहित में उचित माँग भी उठाते रहा हु. कल की बैठक में भी जनता के हित में सरकार को सकारात्मक सुझाव अवश्य दूँगा.