आज खत्म होगा भारत, रूस, अर्मेनिया समेत 17 देशों का युद्धाभ्यास जैपाड, लगभग दो लाख जवानों ने लिया हिस्सा – Daily Kiran
Saturday , 23 October 2021

आज खत्म होगा भारत, रूस, अर्मेनिया समेत 17 देशों का युद्धाभ्यास जैपाड, लगभग दो लाख जवानों ने लिया हिस्सा

मास्को . भारत और अर्मेनिया की सेना दुश्मन पर धावा बोला. बाकी देशों की सेनाएं भी बम बरसा रही हैं. भारी बमबारी से दुश्मन के दिल पर दहशत साफ नजर आ रही है. पूरे हालात की समीक्षा रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने स्वयं की. दरअसल, यह किसी वॉर की कहानी नहीं बल्कि युद्धाभ्यास का का हाले-बयां है. कोल्ड-वॉर के बाद इतने बड़े स्तर पर किए सैन्य अभ्यास में रूस के राष्ट्रपति पुतिन ने भी निरीक्षण किया. इस सैन्य अभ्यास में लगभग दो लाख सैनिक हिस्सा ले रहे हैं.
दरअसल, रूस के नोवोग्राड क्षेत्र में भारत समेत 17 देशों की सेनाएं जैपाड सैन्य अभ्यास में हिस्सा ले रही हैं. भारतीय सेना समेत बाकी देशों की सेना यहां पर बम बरसाने में जुटी है. सैन्य अभ्यास की वजह से हालात ऐसे हैं कि धरती कांप रही है और दुश्मन के दिल पर दहशत नजर आ रही है. एक तरफ जहां रूसी सेना अपने अलट्रा मॉर्डन वेपन से दुनिया के सामने अपनी ताकत दिखा रही है. वहीं भारतीय सेना के नागा रेजमेंट के जवान एक से बढ़कर एक कारनामे कर रहे हैं.

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन जैपाड सैन्य अभ्यास को देखने के लिए पहुंचे हैं. ऐसे में इस सैन्य अभ्यास के महत्व को समझा जा सकता है. तीन से 16 सितंबर के बीच रूस के निजनी-नोवोग्राड इलाके में चल रही जैपाड एक्सरसाइज में भारतीय सेना के जवान भी अपना दमदार प्रदर्शन कर रहे हैं. भारतीय जवानों ने प्लेन जंप, स्पेशल हेलीकॉप्टर ऑपरेशन और डिफेंसिव एक्शन में हिस्सा लिया.

यह देख पाकिस्तान और चीन में चिंता पैदा हो गई है. जैपाड एक्सरसाइज में भारत, रूस, अर्मेनिया, कजाकिस्तान सहित यूरेशिया और दक्षिण एशिया के 17 देशों के सैनिक सैन्य अभ्यास कर रहे हैं. भारतीय सेना ने इस सैन्य अभियान में हिस्सा लेने के लिए नागा रेजमेंट के 200 जवानों को रूस भेजा है. इसके अलावा टैंक और बीएमपी व्हीकल्स और भारतीय सेना के कमांडो भी इसमें हिस्सा ले रहे हैं.

Please share this news

Check Also

पूर्व अफगान उप-राष्ट्रपति सालेह ने 49 दिन बाद की वापसी, पाकिस्तान को लगाई लताड़

काबुल . अफगानिस्तान के पूर्व उप राष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने तालिबान की गुलामी स्वीकार करने …