Saturday , 8 May 2021

जयपुर में पुजारी के शव के साथ सडक़ पर धरना दूसरे दिन भी जारी


जयपुर (jaipur) . राजस्थान (Rajasthan)के दौसा में महुवा में पुजारी शंभ्भू शर्मा की मौत का मामला तूल पकड़ता जा रहा है पुजारी के परिजन न्याय दिलाने के लिये पुजारी के शव को महुवा से जयपुर (jaipur)राज्यसभा सांसद (Member of parliament) किरोड़ीलाल मीणा के नेतृत्व में जयपुर (jaipur)लाया गया था और जयपुर (jaipur)के सिविल लाइन्स फाटक पर पुजारी का शव रखकर धरना दिया गया.

आज भी सरकार से वार्ता विफल होने के बाद धरना जारी है सरकार की ओर से राजस्व मंत्री हरीश चौधरी ने एक प्रतिनिधिमंडल को वार्ता के लिये भी बुलाया लेकिन बात नहीं बनी जिसके बाद सिविल लाइन्स फाटक पर पुजारी के शव को लेकर सभी नेता रातभर धरने पर बैठे और अभी की मौजूदा स्थिति के अनुसार धरना जारी है. महुवा थाने के बाहर रखे पुजारी के शव को, पुलिस (Police) को चकमा देकर ले जाने के मामले में महुवा थानाधिकारी नरेश कुमार शर्मा को निलंबित किया गया है. एसपी अनिल कुमार बेनीवाल ने बताया है कि थानाधिकारी नरेश कुमार शर्मा को शव की पूर्ण निगरानी रखने की विशेष हिदायत दी गई थी लेकिन डॉ. किरोड़ीलाल ने धरनास्थल से शव अन्यत्र पहुंचा दिया जिसके चलते गंभीर लापरवाही बरतने पर महुवा थानाधिकारी को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया गया है.

जयपुर (jaipur)में मीडिया (Media) से वार्ता के दौरान राज्यसभा सांसद (Member of parliament) डॉ. किरोड़ीलाल मीणा ने कहा है कि मुख्यमंत्री (Chief Minister) जी के दरवाजे पर पहुंचने पर हमें लगता था कि हमें न्याय मिल जायेगा लेकिन उन्होंने तो दरवाजा बंद करके रखा हुआ है और ऐसे बेरिकेट लगा रखे है और जिस मंत्री को वार्ता के लिये कहा गया था वह गंभीर नहीं थे और उनकी गंभीरता का इससे भी पता चलता है कि वह प्रचार करने के लिये सुजानगढ़ पहुंच गये तो यह गलत बात है. डॉ. मीणा ने कहा कि शव रखा हुआ है, सरकार को इस मुद्दे पर उच्चप्राथमिका से ध्यान देना चाहिये मांग कोई गलत नहीं हैं पुजारी के साथ जिन लोगों ने यह वाकया किया है उनकी गिरफ्तारी की मांग है और मंदिरमाफी जमीन पर कब्जा हटाने की मांग है.

Please share this news