Wednesday , 25 November 2020

लोकतंत्र को जीवंत रखने के लिए सूचना आयोग जैसी संस्थाओं का अहम योगदानः मुख्यमंत्री

अहमदाबाद (Ahmedabad) . मुख्यमंत्री (Chief Minister) विजय रूपाणी ने कहा कि भारत जैसे दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र वाले देश में लोकतांत्रिक मूल्यों को जीवंत रखने के लिए सूचना आयोग जैसी संस्थाएं बेहद महत्वपूर्ण हैं. बुधवार (Wednesday) सायं अहमदाबाद (Ahmedabad) में भारत के सूचना आयुक्त के तौर पर नियुक्त वरिष्ठ पत्रकार उदय माहुरकर के अभिवादन समारोह में उन्होंने यह बात कही. उन्होंने कहा कि ऐसी अहम संस्था में पत्रकार के तौर पर और वह भी गुजरात (Gujarat) से पहली बार उदय माहुरकर जा रहे हैं, यह हम सभी के लिए गौरव की बात है. उन्होंने कहा कि नव वर्ष के कार्यक्रम की शुरुआत लोकतंत्र के चौथे स्तंभ कहे जाने वाले पत्रकारिता जगत के कार्यक्रम से करने का विशेष आनंद है. मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने कहा कि उदयभाई ने आदर्श और प्रतिबद्धता के साथ पत्रकारिता में कार्य किया है.

भारत की संस्कृति, परंपरा, देश की मूल स्थिति को ध्यान में रखते हुए उन्होंने रिपोर्टिंग की है और उसके जरिए उन्होंने पत्रकारिता में एक नई राह बनाई है जिसके लिए वे बधाई के पात्र हैं. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) (Prime Minister Narendra Modi) और अमितभाई शाह के निरंतर संपर्क के साथ एक निश्चित दिशा में भी काम करने का अवसर उन्हें मिला है, जिसमें उन्होंने पूरी निष्ठा से कार्य किया है. उन्होंने कहा कि उदयभाई पहले पत्रकार के रूप में लोकतंत्र को जीवंत रखने के लिए सक्रिय थे. अब वे केंद्रीय सूचना आयोग में जा रहे हैं जिससे लोगों को बहुत अपेक्षाएं होती हैं. उन्होंने आशा जताई कि वे वहां भी वे अपने पद के साथ न्याय करेंगे.

केंद्रीय सूचना आयोग में उदय माहुरकर की नियुक्ति से गुजरात (Gujarat) के ताज में एक और सफलता का पंख जुड़ा है. भारत के सूचना आयुक्त के रूप में नियुक्त उदय माहुरकर ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि एक व्यक्ति का उसकी कर्मभूमि में ही अभिवादन हो, उससे बड़ी बात और कोई नहीं हो सकती. उन्होंने अपनी पत्रकारिता की यात्रा का उल्लेख करते हुए कहा कि, ‘मैंने देश हित को ध्यान में रखते हुए इतने वर्षों तक पत्रकारिता की है. सत्य और तटस्थता को ध्यान में रखते हुए मैंने पत्रकारिता को न्याय देने का प्रयास किया है.’ गुजरात (Gujarat) मीडिया (Media) क्लब के अध्यक्ष निर्णय कपूर ने स्वागत भाषण में कहा कि हमें इस बात की खुशी है कि उदयभाई गुजरात (Gujarat) मीडिया (Media) क्बल के पूर्व अध्यक्ष रह चुके हैं.

उनकी पत्रकारिता से प्रभावित होकर अनेक लोगों ने पत्रकारिता के क्षेत्र में पदार्पण किया है. कपूर ने गुजरात (Gujarat) मीडिया (Media) क्लब की ओर से जनजागरूकता के लिए किए गए कार्यों को रेखांकित करते हुए यह कामना की कि उदयभाई अपनी पत्रकारिता की तरह ही लोगों के हितों को सर्वोपरि रखते हुए आगे कार्य करेंगे. लायंस क्लब इंटरनेशनल के अध्यक्ष प्रवीणभाई छाजेड़ ने कहा कि मीडिया (Media) लोकतंत्र का एक मजबूत स्तंभ है. इस स्तंभ को बरकरार रखने के लिए गुजरात (Gujarat) मीडिया (Media) क्लब ने अत्यधिक सक्रियता के साथ काम किया है. उन्होंने खुशी जताई कि उदयभाई हम सभी के बीच से अब राष्ट्रीय फलक पर कार्य करने के लिए नई दिल्ली (New Delhi) जा रहे हैं. नवगुजरात (Gujarat) समय के संपादक अजय उमट ने उदय माहुरकर के साथ अपने कॉलेज के दिनों के संस्मरणों की याद ताजा करते हुए कहा कि एम.एस. यूनिवर्सिटी के स्पोर्ट्स एडिटर से लेकर सूचना आयुक्त तक के 36 बरसों के पत्रकारिता के सफर का मैं साक्षी रहा हूं.

वे केवल 22 वर्ष की उम्र में गुजरात (Gujarat) विधानसभा की रिपोर्टिंग करते थे, उस दौर में यह उम्र बहुत कम मानी जाती थी. उमट ने कहा कि फैक्ट, फिगर और प्रतिपक्ष का अभिप्राय लेकर वे संशोधन आधारित समाचार लिखते रहे हैं. सूचना का अधिकार (आरटीआई) का कानून अस्तित्व में आने के बाद उदयभाई केंद्रीय सूचना आयोग में ऐसे पहले व्यक्ति हैं, जो पत्रकारिता जगत से आए हैं. इस मौके पर उदय माहुरकर पर निर्मित दृश्य-श्राव्य प्रस्तुति पेश की गई. अहमदाबाद (Ahmedabad) मिरर की संपादक दीपल त्रिवेदी ने भी अपने विचार व्यक्त किए. अभिवादन समारोह में शिक्षा मंत्री भूपेन्द्रसिंह चूड़ास्मा, गृह राज्य मंत्री प्रदीपसिंह जाडेजा, गुजरात (Gujarat) मीडिया (Media) क्लब के सदस्य और वरिष्ठ पत्रकार उपस्थित थे.