Sunday , 11 April 2021

किसान आंदोलन में परिवार का एक सदस्य नहीं गया तो 2 हजार रुपये जुर्माना

चंडीगढ़ (Chandigarh) . भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत के रोने के बाद अब फिर से बड़ी संख्या में लोग प्रदर्शनस्थलों पर पहुंच रहे हैं. इसके साथ ही पंजाब (Punjab) में मोगा के गांव साफूवाला की ग्राम पंचायत फैसले के अनुसार गांव के हर घर से एक सदस्य दिल्ली बॉर्डर पर चल रहे किसान आंदोलन में शामिल होगा. जिस परिवार से कोई भी सदस्य दिल्ली नहीं जायेगा उसे 2 हजार रुपये जुर्माना भरना पड़ेगा. वहीं हर ग्रामीण से 100 रूपए प्रति एकड़ के हिसाब से वहां खर्चे पानी के लिए लिया जायेगा. अगर वहां किसी को कोई नुकसान होता है तो उसकी भरपाई पूरा समूह करेगा. यह फरमान मोगा के गांव के सरपंच ने पढ़ कर सुनाया.

वहीं बठिंडा में विर्क खुर्द ग्राम पंचायत ने किसान आंदोलन को लेकर एक बैठक की. जिसमें फैसला लिया गया कि हर परिवार से एक-एक सदस्य को किसान आंदोलन में भेजा जाएगा, जो वहां जाकर नए कृषि कानूनों का विरोध करेंगे. साथ ही उनके लिए प्रदर्शनस्थल पर कम से कम एक हफ्ते रहना अनिवार्य है. वहीं अगर किसी परिवार ने ऐसा करने से मना किया तो उसके ऊपर 1500 रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा. अगर उसने जुर्माने की राशि देने से मना कर दिया, तो उसका समाज से सामूहिक रूप से बहिष्कार किया जाएगा.

Please share this news