कोरोना के कठिन समय में ध्यान एवं योग विज्ञान केंद्र की शुरूआत होने पर मुझे बहुत खुशी: केजरीवाल

नई दिल्ली (New Delhi) . दिल्ली के सीएम ने कहा कि अगर 20, 25, 30, 40 लोग अपना एक ग्रुप बनाकर दिल्ली सरकार को फोन करें और कहें कि हमें योग सीखना है, तो दिल्ली सरकार उनको इंस्ट्रक्टर मुफ्त में उपलब्ध कराएगी. वे लोग योग सीखने के लिए इंस्ट्रक्टर को अपनी आरडब्ल्यूए, किसी पार्क या किसी भी सार्वजनिक स्थान पर वह बुला लें. अगर इतने लोगों का ग्रुप मिल कर कहते हैं कि हमें योग सीखना, तो उन्हें इंस्ट्रक्टर दिल्ली सरकार मुफ्त में देगी. मुझे लगा कि लोगों को योग के प्रति खींचने का यह एक बड़ा सरल तरीका है.

इस सपने के साथ हम लोगों ने इस साल बजट के अंदर प्रावधान किया और हमने सोचा था कि हम इसको पूरी शिद्दत के साथ शुरू करेंगे. जैसे ही एक अप्रैल से बजट लागू हुआ, उसके बाद कोरोना आ गया. आप यकीन मानिए, मैं अपने मन में यह सोच कर बैठा था कि अभी इसका काम शुरू नहीं हुआ है, लेकिन अभी पहले भर पहले डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने मुझसे इसके कार्यक्रम के लिए समय मांगा, तब मुझे पता चला कि यह शुरू हो गया है. आप सब लोगों ने इतने कठिन समय में, जब पूरी दिल्ली, पूरा देश कोरोना से जूझ रहा था, इसे जारी रखा और आज इसका हम उद्घाटन कर रहे हैं. मैं बता नहीं सकता हूं कि आज मुझे कितनी खुशी हो रही है.

-2 अक्टूबर से हम लोगों को मुफ्त इंस्ट्रक्टर उपलब्ध कराना शुरू कर देंगे

सीएम केजरीवाल ने कहा कि संभावना है कि आगामी दो अक्टूबर से हम इसको जनता के बीच ले जाने के लिए तैयार होंगे. आज हमारे सामने जो 450 योग इंस्ट्रक्टर हैं, वह योगा इंस्ट्रक्टर तब तक तैयार हो जाएंगे और दो अक्टूबर से हम वास्तविकता में दिल्ली के लोगों को यह कॉल दे पाएंगे कि अगर आप अपने यहां योगा कराना चाहते हैं, तो आप हमें बताइए. हम आपको टीचर मुफ्त में उपलब्ध कराएंगे. अभी कम शिक्षक हैं और हो सकता है कि हम सारे लोगों को एक साथ शिक्षक उपलब्ध नहीं करा पाएं, लेकिन यह एक अच्छी शुरुआत हो गई है. बहुत कम समय में इस पूरे कार्यक्रम को डिजाइन किया गया है.

– मैं समझता हूं कि कोरोना काल के अंदर योग का सबसे ज्यादा महत्व है

सीएम ने कहा, ‘मै समझता हूं कि इस समय लोगों को सबसे ज्यादा योग की जरूरत महसूस हो रही है. जब लोग आपस में बात करते हैं कि इसको कोरोना हो गया, उसको कोरोना नहीं हुआ. जब लोग आपस में बात करते हैं कि इसको तो माइल्ड कोरोना हुआ, उसको तो बड़ा तेज कोरोना हुआ, तो फिर लोग आपस में बात करते हैं कि इसकी तो इम्यूनिटी ज्यादा है, इस वजह इसको कोरोना नहीं हुया या इस वजह से इसको कोरोना कम हुआ. अब यह इम्युनिटी शब्द हर आदमी की जुबान पर है. यह इम्युनिटी कैसे आएगी. यह इम्युनिटी तो जीवन शैली को ठीक रखने से आएगी. यह इम्युनिटी तो योग करने से आएगी. योग, लोगों को इम्यूनिटी प्रदान करेगा और अंदर से शक्ति देगा और लोगों को स्वस्थ रखेगा.

मैं समझता हूं कि इस वक्त लोगों में सबसे ज्यादा मांग योग होगी. दोनों तरह से, एक तो कोरोना से बचने के लिए, योगा करेंगे तो आपकी इम्यूनिटी अच्छी होगी. आपकी अगर इम्युनिटी अच्छी होगी, तो आप कोरोना से बचेंगे. और दूसरा यह कि जिन लोगों को कोरोना की गंभीर बीमारी हुई होती है, तो उनको पोस्ट कोविड (ठीक होने के बाद) में शारीरिक और मानसिक जरूरतें ज्यादा बढ़ जाती हैं, उनको शारीरिक और मानसिक तौर पर एक्सरसाइज और मेडिटेशन दोनों की बहुत सख्त जरूरत होती है. करोना के दौरान मुख्य रूप से फेफड़े (लंग) और ऑक्सीजन की सबसे ज्यादा समस्या होती है. मैं समझता हूं कि पोस्ट कोविड-19 (Covid-19) के दौरान हम प्रणायाम आदि सिखाएंगे, तो इसका लोगों को काफी लाभ मिलेगा. मैं समझता हूं कि कोरोना काल के अंदर योग का सबसे ज्यादा महत्व है. ऐसे समय में यह योग का कार्यक्रम शुरू किया जा रहा है और अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष में शुरू किया जा रहा है. इसके लिए मैं बेहद खुश हूं और दिल्ली की जनता को बधाई देता हूं कि दिल्ली की जनता के लिए आज इतना शानदार कार्यक्रम शुरू किया जा रहा है.

Please share this news