Friday , 14 May 2021

सैमसंग गैलेक्सी टैब भारत में एनीमिया को पूरी तरह खत्म करने के लिए कैसे कर रहे हैं हेल्थक्यूब की मदद

परी लोक की कथाएं, पक्का इरादा और रोमांच के साथ ढेर सारी ऊर्जा ये विशेषताएं स्कूल जाने वाले बच्चों के सबसे गहरे साथी होते हैं. ऐसे जोशीले बच्चों को दुनिया में नए-नए करतब करते देखना किसी को भी उम्मीद और खुशी से भर देता है.

 

ऐसे अनूठे समूह के लिए शायद ही कोई ऐसे पल की कल्पना करे, जब इन्हें थकान या शारीरिक कमियों से पस्त देखा जाए. स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय और यूनिसेफ ने साथ मिलकर मार्च 2018 में एनीमिया मुक्त भारत के लिए पहल की थी ताकि सेहत के बारे में इस चिंता से निपटने के लिए ज़रूरी सामान्य उपायों के बारे में जागरूकता पैदा की जा सके.

 

आंकड़ों के मुताबिक, भारत में 50% से अधिक बच्चे एनीमिया से पीड़ित हैं. इस परियोजना के तहत बेंगलुरु (Bangalore) स्थित एक डायग्नोस्टिक सॉल्यूशंस प्रोवाइडर हेल्थक्यूब के प्रोफेशनल्स को बच्चों के खून की जांच करने की ज़िम्मेदारी दी गई थी. इस काम को किसी ग्रामीण इलाके में कैंप जैसे एक सेट-अप में अंजाम दिया जाता है जहां एक चिकित्साकर्मी लाइन लगाकर हीमोग्लोबिन स्तर की जांच का इंतज़ार कर रहे स्कूली छात्रों की जांच करता है.

 

चिकित्साकर्मी खून के नमूने जांच के लिए लेते हुए

 

चूंकि स्वास्थ्य मानकों की दूर से की जाने वाली यह रिकॉर्डिंग मैनुअली की जाती है, तो इसमें गलतियों की गुंजाइश भी रहती है, इसलिए हेल्थक्यूब को एक ऐसे मोबिलिटी टेक्नोलॉजी साझेदार की ज़रूरत थी जो दूर-दराज के इलाकों से विशाल मात्रा में आंकड़ों को स्थानीय स्तर पर एकत्र करने में उनकी मदद कर सके. इसी मोड़ पर सैमसंग ने अपने हथेली के बराबर का सॉल्यूशन गैलेक्सी टैब A पेश किया.

 

सैमसंग इंडिया के एंटरप्राइज़ सेल्स में वरिष्ठ निदेशक आकाश सक्सेना ने कहा, “सैमसंग ने कम समय और कम खर्च में ग्रामीण मरीजों के रोग का पता लगाने के लिए हेल्थक्यूब के साथ साझेदारी की है. गैलेक्सी टैब A पर हेल्थक्यूब के EzDx ऐप के माध्यम से स्वास्थ्यकर्मी मरीजों से जुड़े आंकड़े तेज़ी से, आसानी से और सुरक्षित तरीके से संभाल सकते हैं. सैमसंग को हेल्थक्यूब की इस महान पहल में टेक्नोलॉजिकल साझेदार बनने का गर्व है.”

 

“हेल्थक्यूब का इस्तेमाल स्कूली बच्चों में हीमोग्लोबिन का स्तर मापने के लिए किया जाता है. हम गैलेक्सी टैब A में इंस्टॉल किए गये हेल्थक्यूब के EZDX ऐप में आंकड़े संग्रह करते हैं. इस टैबलेट का डिस्प्ले बड़ा है जिसके कारण इसमें ई-पंजीकरण फॉर्म को भरना और उस पर हस्ताक्षर करना आसान हो जाता है. क्षेत्र में काम कर रहा ऑपरेटर फोटोग्राफ ले सकता है और इसे पलक झपकते ऑनलाइन अपलोड कर सकता है. यहां तक कि इसकी बैटरी भी भरोसेमंद है और बिना रिचार्ज की आवश्यकता हुए दिन भर काम कर सकती है जो अंदरूनी इलाकों में काम करने के लिए इसे उपयोगी बनाता है. यह तेज़ है, विश्वसनीय है और सुरक्षित है,” हेल्थक्यूब के संस्थापक डॉ. रमनन लक्ष्मीनारायण ने कहा.

 

डॉ. रमनन लक्ष्मीनारायण, संस्थापक, हेल्थक्यूब

मरीजों के आंकड़े रिकॉर्ड करने के लिए बड़ी स्क्रीन, उच्च-रिज़ॉल्यूशन का कैमरा

हेल्थक्यूब ग्रामीण इलाकों में रोग की पहचान को आसान और सरल बनाने के लिए काम करता है. उन्हें एक ऐसी तकनीक की ज़रूरत थी जो उन्हें न सिर्फ बड़ी मात्रा में आंकड़े एकत्र करने में मदद कर सके, बल्कि उन्हें अटूट सुरक्षा के साथ रख भी सके. यूनिक ID के साथ मरीजों का रिकॉर्ड तैयार करना काफी समय लेता था और ऐसा देखा जा रहा था कि मरीजों की रिपोर्ट को डॉक्टरों (Doctors) के साथ साझा करने में भी काफी देर हो रही थी.

 

इस बहुउद्देश्यीय टैब ने आंकड़ों को संग्रह करना और उन्हें रिकॉर्ड करने की प्रक्रिया को तत्काल पूरा करना संभव बना दिया. टैबलेट की बड़ी स्क्रीन स्क्रीनिंग के बाद आंकड़ों को फील्ड में ही रिकॉर्ड करने में मदद करती है. टैबलेट के उच्च-रिज़ॉल्यूशन कैमरे का इस्तेमाल कर मरीजों का यूनिक रिकॉर्ड तुरंत तैयार किया जा सकता है.

नॉक्स से मरीज की निजता की सुरक्षा, और आसान शेयरिंग

मरीजों की रिपोर्ट के आंकड़ों की सुरक्षा और क्षेत्र में कार्यरत व्यक्तियों को दिए गये उपकरणों का दुरुपयोग रोकना एक अन्य महत्वपूर्ण चुनौती थी. उन्हें विश्लेषणात्मक और सुरक्षा उद्देश्यों से लाभार्थियों के लोकेशन पर नज़र रखने की ज़रूरत थी. नॉक्स मैनेज टैबलेट में संग्रहित मरीजों के आंकड़ों की हिफाज़त करने के लिए तिज़ोरी जैसी सुरक्षा मुहैया कराता है.

 

पर्याप्त स्पेस के साथ मरीजों के यूनिक रिकॉर्ड को क्लाउड पर अपलोड कर संग्रहित किया जा सकता है. इसके बाद इस रिकॉर्ड को तुरंत स्वास्थ्यकर्मियों के साथ/द्वारा सुरक्षित तरीके से साझा किया जा सकता है.

 

हेल्थक्यूब के कार्यान्वयन प्रबंधक पुनीत मान ने कहा, “नॉक्स मैनेजर मरीजों की गोपनीयता को एक बिलकुल ही नए स्तर पर लेकर जाता है क्योंकि इन आंकड़ों की सुरक्षा को आसानी से तोड़ा नहीं जा सकता है.”

 

हेल्थक्यूब प्रोफेशनल जांच के लिए नमूने एकत्र करते हुए

दूर-दराज के इलाकों के लिए शक्तिशाली बैटरी, GPS

गैलेक्सी टैब A का GPS फीचर बहुत उपयोगी है क्योंकि यह कर्मियों और लाभार्थियों के लोकेशन को रियल टाइम में जानने और उनकी सुरक्षा को सुनिश्चित करने में हेल्थक्यूब की मदद करता है.

 

पुनीत मान ने कहा, “गैलेक्सी टैब A का स्मूथ इंटरफेस इसे स्क्रीनिंग के लिए एक आदर्श उपकरण बनाता है. यहां तक कि दूर-दराज के इलाकों में भी समय या आंकड़ों की कोई क्षति नहीं होती है. न सिर्फ हम स्वास्थ्यकर्मी, बल्कि बच्चे भी इस पूरी प्रक्रिया के प्रति काफी सकारात्मक रुख दिखाते हैं क्योंकि इसमें उन्हें घंटों तक इंतज़ार नहीं करना होता सब कुछ काफी व्यवस्थित होता है. यह टैब सबसे ज़्यादा अलग-थलग पड़े ग्रामीण इलाकों में भी हमारी प्रक्रिया को क्रियान्वित करने में बिलकुल सटीक रूप से मददगार होता है क्योंकि सभी मरीजों की सूचना इसमें अपने आप संग्रहित हो जाती है और सुरक्षित भी रहती है.”’

 

Please share this news