हिंदुस्तान जिंक की समाधान परियोजना से जुड़े किसानों ने जावर में मनाया विश्व पशु कल्याण दिवस – Daily Kiran
Thursday , 9 December 2021

हिंदुस्तान जिंक की समाधान परियोजना से जुड़े किसानों ने जावर में मनाया विश्व पशु कल्याण दिवस

हिंदुस्तान जिंक में सामुदायिक विकास में न केवल स्थानीय समुदायों का स्वास्थ्य और कल्याण शामिल है, बल्कि उनकी आजीविका के स्रोतों – उनके खेतों और पशुओं तक भी फैला हुआ है. विश्व पशु कल्याण दिवस पर समाधान किसानों ने राजकीय पशुपालन विभाग उदयपुर (Udaipur) से पशुधन विशेषज्ञ डॉ. डी.पी. गुप्ता को आमंत्रित किया. पशु स्वास्थ्य विशेषज्ञ ने पशुओं के विकास, टीकाकरण, कृमि मुक्ति का महत्व, कृत्रिम गर्भाधान (एआई) के लाभ और नस्ल सुधार, दूध उत्पादन में वृद्धि, मौसमी बीमारियों और मवेशियों के घरेलू उपचार के साथ- साथ आवारा जानवरों की देखभाल के लिए कल्याणकारी तरीकों पर एक समग्र प्रशिक्षण दिया गया. इस आयोजन में 10 गांवों के समाधान परियोजना के 60 से अधिक लाभार्थियों की प्रतिभागिता रही. समाधान परियोजना 2200 से अधिक किसानों तक पहुँची है और जावर में 1300 से अधिक पशुपालक लाभविन्त हुए है.

 

डॉ. डी. पी. गुप्ता ने मवेशियों में मौसमी बीमारियों से जुड़े विभिन्न पहलुओं पर ज्ञान और जानकारी दी. उन्होंने जोर देकर कहा कि अत्यधिक घास का सेवन जानवरों के लिए हानिकारक है. मानसून के दौरान जानवर नरम और ताजी अंकुरित घास का उपयोग करते हैं और इसका सेवन  भी अधिक मात्रा में करते हैं. चूंकि ताजी घास में बहुत सारा पानी और फाइबर होता है, इसलिए यह जानवरों के लिए अस्वस्थ है और दस्त का कारण बनता है. एक सरल निवारक उपाय यह होगा कि घास को काटकर धूप के मौसम में सुखाया जाए और इसे चारे के रूप में संग्रहित किया जाए. विशेष रूप से मानसून से संबंधित एक अन्य मुद्दा अत्यधिक नमी का है जो जीवाणु रोगों के साथ-साथ कीड़े से भी जुड़ा हुआ है. दोनों, बरसात के मौसम की शुरुआत में और साथ ही मानसून के मौसम के दौरान नियमित अंतराल पर एक निवारक और साथ ही उपचारात्मक उपाय डी- वर्मिंग सुनिश्चित करना है. उदर रोग, जिसे आमतौर पर उदर मास्टिटिस के रूप में जाना जाता है, मानसून के दौरान होता है. वे मवेशियों के थन को सूजा देते हैं और फिर दूध उत्पादन को कम या बंद कर देते हैं. इनका इलाज सामान्य एंटीबायोटिक दवाओं का उपयोग करके किया जा सकता है. पशुपालकों को एक निवारक उपाय के रूप में बरसात के मौसम में अपने खेतों और पशु आश्रयों को नियमित रूप से कीटाणुरहित करना चाहिए. टिक्स जैसे मवेशी पूर्वी तट बुखार नामक बीमारी का कारण बनते हैं, जो गंभीर है, इससे मवेशियों की मौत भी हो सकती है. टिक्कों से होने वाले संक्रमण का इलाज करने के लिए किसानों को नियमित रूप से अपने पशुओं का छिड़काव करना चाहिए और टिक्कों को रोकने के लिए मवेशियों की छांव के पास की झाड़ियों को काट देना चाहिए. इसके अतिरिक्त, पशुओं में अपच दूध उत्पादन में कमी और पशु के समग्र खराब स्वास्थ्य का एक सामान्य कारण है. सरसों का तेल खिलाना एक सरल घरेलू उपाय है जो समस्या को हल करने में मदद कर सकता है. उन्होंने आवारा पशुओं की देखभाल के लिए स्वास्थ्य संबंधी बुनियादी जानकारी के बारे में भी बताये.

 

डॉ. डी. पी. गुप्ता ने इस अवसर पर कहा कि ष् मैंने वास्तव में पाया कि जावर के किसान एक प्रगतिशील एवं उत्साही है और पशुधन विकास की क्षमता को देखते हुए, इस क्षेत्र में एक डेयरी इकाई स्थापित करना सफल हो सकता है.

नाथूलाल पटेल, जवार के एक पशुपालक और समाधान लाभार्थी ने कहा कि “समाधान परियोजना के तहत, मुझे बकरियों के कृत्रिम गर्भाधान के लाभों के बारे में बताया गया. समाधान के तहत वर्तमान में मेरे पास 2 हाइब्रिड बेबी बकरियां हैं, बकरी एआई के लिए धन्यवाद. मैंने समाधान द्वारा बताए गए प्रशिक्षण में भाग लेने के बाद अपने सभी मवेशियों को बीएनएच-10 नेपियर घास उपलब्ध कराना शुरू किया. इससे उनके दूध उत्पादन क्षमता में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है जिससे आय में सुधार हुआ है. समाधान परियोजना के तहत लाभान्वित होने वाले पशुपालकों में से एक के रूप में, मुझे समय-समय पर जानवरों की निवारक और उपचारात्मक देखभाल के बारे में जानकारी और प्रशिक्षण प्राप्त हुआ है, जो वास्तव में मुझे और हम में से कई लोगों के लिए मददगार रहा है.

समाधान परियोजना के माध्यम से, पूरे राजस्थान (Rajasthan) में 11000 पशुपालकों के स्वामित्व वाले मौजूदा कृषि- आधारित संसाधनों की उत्पादकता बढ़ाने के लिए डोमेन विशेषज्ञों के इनपुट के साथ-साथ सर्वोत्तम वैज्ञानिक प्रेक्टिसेज को प्रौद्योगिकी के साथ जोड़ा गया है. पशुपालकों को पशुओं की दुग्ध उत्पादन क्षमता में वृद्धि और पशुओं की नस्ल सुधार सुनिश्चित करने के साथ-साथ निवारक और उपचारात्मक स्वास्थ्य के संदर्भ में पशु स्वास्थ्य के विभिन्न पहलुओं पर प्रशिक्षित किया जाता है. कंपनी मौसमी पशु स्वास्थ्य शिविर भी आयोजित करती है और मवेशियों के लिए ताजा और उच्च पोषण फीड की उपलब्धत करती है. कंपनी का उद्देश्य भारत को बेहतर बनाना है और उस लक्ष्य को प्राप्त करना है जो हर संभव कदम पर अपने संसाधनों और विशेषज्ञता के साथ हमारे देश की रीढ़ को सशक्त बनाना चाहता है. समाधान परियोजना को हिंदुस्तान जिंक द्वारा ठप्ैस्क् के साथ तकनीकी साझेदारी में कार्यान्वित किया गया है.

Check Also

डॉ कमल सिंह राठौड़ को एजुकेशन आइकॉन अवार्ड

उदयपुर (Udaipur). बीएन फार्मेसी महाविद्यालय के अधिष्ठाता प्रोफेसर युवराज सिंह सारंगदेवोत ने बताया कि महाविद्यालय …