Sunday , 7 June 2020
गौतम नवलखा की अंतरिम जमानत की अर्जी पर हाई कोर्ट ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी से मांगा जवाब

गौतम नवलखा की अंतरिम जमानत की अर्जी पर हाई कोर्ट ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी से मांगा जवाब


नई दिल्ली (New Delhi) . भीमा कोरेगांव मामले में दिल्ली हाई कोर्ट ने गौतम नवलखा की अंतरिम जमानत की याचिका पर राष्ट्रीय जांच एजेंसी को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है. गौतम नवलखा की ओर से दिल्ली हाई कोर्ट में याचिका लगाकर अंतरिम जमानत की मांग की है. गौतम नवलखा फिलहाल तिहाड़ जेल में बंद हैं. पिछले महीने नागरिक अधिकार कार्यकर्ता गौतम नवलखा ने उच्चतम न्यायालय से राहत विस्तार नहीं मिलने के बाद सामने आत्मसमर्पण कर दिया था.

अधिकारियों ने यह जानकारी दी. नवलखा को उच्चतम न्यायालय ने आत्मसमर्पण करने का आदेश दिया था. उन्हें 2018 के भीमा कोरेगांव दंगे में कथित संलिप्तता को लेकर अवैध गतिविधि रोकथाम अधिनियम के तहत आरोपी बनाया गया है. सालों से मुम्बई से निकलने वाले इकोनॉमिक एंड पोलिटिकल वीकली जर्नल के संपादक नवलखा उन पांच मानवाधिकार कायकर्ताओं में से एक हैं जिन्हें माओवादियों के साथ कथित संबंधों और भीमा कोरेगांव हिंसा में उनकी कथित संलिप्तता को लेकर गिरफ्तार किया गया था.

हालांकि बाद में उच्चतम न्यायालय और उच्च न्यायालय ने उन्हें गिरफ्तारी से संरक्षण प्रदान कर दिया. उच्चतम न्यायालय ने 16 मार्च को नवलखा को तीन सप्ताह के अंदर आत्मसमर्पण करने का निर्देश दिया था. दरअसल नवलखा ने इस आधार पर राहत बढ़ाने की अर्जी लगायी थी कि कोविड-19 (Kovid-19) महामारी (Epidemic) के दौरान जेल जाने का मतलब एक प्रकार का मृत्युदंड है.