Wednesday , 23 June 2021

हेड कांस्टेबल सीमा देर रात खुद ही निकल जाती हैं ऑपरेशन पर, अब तक तलाशे 63 बच्चे

नई दिल्ली (New Delhi) . दिल्ली पुलिस (Police) की बहादुर महिला हेड कांस्टेबल सीमा पिछ्ले तीन माह में 63 लापता बच्चों को खोजकर अपने अपने परिवार से मिलवा चुकी हैं. हरियाणा (Haryana) की रहने वाली सीमा फिलहाल आईएनए मेट्रो पुलिस (Police) स्टेशन में पदस्थ हैं लेकिन ताजुब की बात यह है कि हेड कांस्टेबल सीमा दिल्ली के अलग-अलग जिलों से गुमशुदा बच्चों को अपनी बहादुरी और तकनीकी सूझबूझ से तलाश कर चुकी हैं. उत्तरप्रदेश (Uttar Pradesh) बिहार (Bihar) हरियाणा (Haryana) दिल्ली एनसीआर से 8 साल से छोटे मासूम औऱ 8 साल से अधिक उम्र के कई लड़के-लड़कियों को खुद हेड कांस्टेबल सीमा अपने मुखबिरों की मदद इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस डोर टू डोर सर्च ऑपरेशन कर खोज चुकी हैं.

सीमा के करियर का सबसे बड़ा केस साल 2017 को रिठाला मेट्रो स्टेशन से लापता एक स्लो माइंड बच्ची को तलाश करने का है. इस बच्ची को लोकल पुलिस (Police) क्राइम ब्रांच तलाश नही कर पा रही थी, लेकिन हेड कांस्टेबल सीमा तीन साल तक इस बच्ची की खोज में लगी रहीं और हाल में इस बच्ची को फरवरी 2021 में शहादरा इलाके से बच्ची को तलाश कर उसके परिवार के सुपुर्द कर दिया. मेट्रो पुलिस (Police) भी हाल में करीब 100 गुमशुदा बच्चों को अलग-अलग राज्यो से तलाश करने में सफलता पाई है. सीमा ने अपने सीनियर से खास तौर पर गुमशुदा बच्चों को खोजने का टॉस्क लिया है और आज तक वो बच्चो को तलाशने में जुटी है.

डीसीपी मेट्रो जितेंद्र मनी बताते हैं कि हेड कांस्टेबल सीमा कई बार बच्चों के गुमशुदा होने की देर रात को भी सूचना मिलने पर ऑपरेशन पर निकल जाती हैं. यह सीमा का जुनून ही है.

Please share this news