Friday , 16 April 2021

सरकार ने किसानों को बातचीत के लिए बुलाया, अब 30 को होगी सरकार बातचीत

नई दिल्ली (New Delhi) . कृषि बिलों के खिलाफ आंदोलनरत किसानों और सरकार के बीच अब 30 दिसंबर को बातचीत होगी. सरकार ने किसानों को 30 दिसंबर को बातचीत के लिए बुलाया. बैठक दोपहर 2 बजे विज्ञान भवन में होगी. इससे पहले किसानों ने शनिवार (Saturday) को सरकार को चि_ी लिखकर मंगलवार (Tuesday) 11 बजे मीटिंग करने का वक्त दिया था. उन्होंने 4 शर्तें भी रखीं. वहीं, केरल (Kerala) सरकार 31 दिसंबर को विधानसभा में नए कृषि कानून के खिलाफ अध्यादेश पेश करेगी. गवर्नर आरिफ मोहम्मद खान ने इसके लिए एक दिन का विशेष सत्र बुलाने को मंजूरी दे दी है. इस दौरान इन कानूनों पर चर्चा होगी और इनके खिलाफ अध्यादेश पास किया जाएगा.

नए कृषि कानूनों को लेकर सरकार और किसान संगठनों के बीच ठनी रार अबतक खत्म नहीं हो पाई है. किसान संगठन कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग पर अड़े हुए हैं जबकि सरकार बार-बार बातचीत के लिए कह रही है. इस बीच सरकार ने किसान संगठनों को 30 दिसंबर को एक बार फिर से बातचीत के लिए आमंत्रित किया है. वहीं, कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा है कि किसानों के बीच कृषि कानूनों को लेकर जो झूठ की दीवार तैयार की गई है, वह जल्द ही गिरेगी.

संयुक्त किसान मोर्चा को लिखा पत्र

कृषि मंत्रालय के सचिव संजय अग्रवाल ने संयुक्त किसान मोर्चा को पत्र लिखकर बातचीत के लिए आमंत्रित किया है. अग्रवाल ने पत्र में लिखा, संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से 26 दिसंबर को प्रेषित इमेल में किसान संगठन के प्रतिनिधियों और भारत सरकार के साथ अगली बैठक के लिए समय सूचित किया गया है. अनुरोध है कि 30 दिसंबर को दोपहर 2 बजे विज्ञान भवन में केंद्रीय मंत्री स्तरीय समिति के साथ सर्वमान्य समाधान हेतु बैठक में हिस्सा लें.

जल्द गिरेगी झूठ की दीवार: तोमर

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने सोमवार (Monday) को कहा कि नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के बीच झूठ की दीवार को सुनियोजित तरीके से फैलाया गया है, लेकिन यह लंबे समय तक नहीं चलेगा और विरोध प्रदर्शन करने वाले किसानों को जल्द ही सच्चाई का अहसास होगा. कृषि मंत्री ने दोहराया कि उन्हें उम्मीद है कि इस गतिरोध को समाप्त करने के लिए कोई समाधान शीघ्र ही निकलेगा.

Please share this news