Friday , 27 November 2020

वर्ल्ड बैंक के पूर्व चीफ इकनॉमिस्ट कौशिक बसु ने भारत के हालात पर जताई चिंता


लंदन . कोरोना (Corona virus) का भारत की अर्थव्यवस्था पर बहुत बुरा असर पड़ा है. तमाम एजेंसियों ने तो यहां तक अनुमान लगाया है कि अर्थव्यवस्था अभी निगेटिव ही रहेगी. इसी बीच कॉर्नेल यूनिवर्सिटी में इकनॉमिक्स के प्रोफेसर और विश्व बैंक (Bank) के पूर्व चीफ इकनॉमिस्ट कौशिक बसु ने भारत की अर्थव्यवस्था पर चिंता जताते हुए एक ट्वीट दिया है.

कौशिक बसु ने अपने ट्वीट में लिखा है कि देश के भले के लिए हमें इन आंकड़ों पर एक नजर डालनी चाहिए. ये एशिया में ग्रोथ और कोरोना का आंकड़ा है. इसे देख कर ये साफ तौर पर नहीं कहा जा सकता है भारत की अर्थव्यवस्था गिरने की वजह कोरोना पर कंट्रोल के लिए उठाए गए कदम हैं.

हम इस वक्त उस स्थिति में हैं, जो हमने पहले कभी नहीं देखी. हमें फैक्ट्स का सामना करने की जरूरत है और उसी के हिसाब से पॉलिसी में सुधार करने की जरूरत है. इस वक्त गरीबों को वित्तीय मदद की जरूरत है. उन्होंने एशिया के देशों की ग्रोथ और वहां कोरोना के मामलों में ग्रोथ के आंकड़े को कंपाइल करते हुए नवंबर 2017 तक के आंकड़ों के हिसाब से एक टेबल शेयर की है.

इस टेबल के हिसाब से देखा जाए तो ग्रोथ के मामले में बांग्लादेश 3.8 फीसदी की ग्रोथ के साथ सबसे ऊपर है, जबकि भारत 14 देशों की इस लिस्ट में -10.3 फीसदी की ग्रोथ के साथ सबसे नीचे है. वहीं दूसरा आंकड़ा है कोरोना के मामलों का जिसमें भूटान में प्रति 10 लाख लोगों पर कोरोना से एक भी शख्स की मौत नहीं हुई है, जबकि भारत में प्रति 10 लाख लोगों पर कोरोना से 95 लोगों की मौत हुई है.