अपने एनसीएलएटी के पद पर बने रहेंगे पूर्व जस्टिस अशोक इकबाल चीमा – Daily Kiran
Wednesday , 20 October 2021

अपने एनसीएलएटी के पद पर बने रहेंगे पूर्व जस्टिस अशोक इकबाल चीमा

नई दिल्ली (New Delhi) . सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) में गुरुवार (Thursday) को केंद्र सरकार (Central Government)ने माना कि राष्ट्रीय कंपनी कानून अपीलीय न्यायाधिकरण (एनसीएलएटी) के पूर्व अध्यक्ष जस्टिस अशोक इकबाल सिंह चीमा को फैसला सुनाने के लिए 20 सितंबर तक पद पर बने रहने दिया जाएगा, इसके साथ चीमा की समय से पहले सेवानिवृत्ति से जुड़ा विवाद खत्म हो गया. इससे पूर्व कोर्ट ने सरकार के रवैये पर सुनवाई करते हए कहा था कि वह स्वत: संज्ञान लेकर न्यायाधिकरण सुधार कानून, 2021 पर रोक लगा देंगे. कोर्ट ने कहा कि यदि आपको नियुक्ति का अधिकार है तो हमें कानून को रोकने और निरस्त करने का अधिकार है. इस कानून में न्यायाधिकरणों में नियुक्त किए जाने वाले अधिकारियों का कार्यकाल चार वर्ष का किया गया है.

एनसीएलएटी के पूर्व अध्यक्ष न्यायमूर्ति चीमा को 20 सितंबर को सेवानिवृत्त होना था, लेकिन उनकी जगह 11 सितंबर को ही जस्टिस एम वेणुगोपाल को न्यायाधिकरण का कार्यवाहक अध्यक्ष नियुक्त कर दिया गया. इसके चलते एक अजीबोगरीब स्थिति पैदा हो गई और जस्टिस चीमा ने शीर्ष अदालत में अपील की. अटॉर्नी जनरल के के वेणुगोपाल ने मुख्य न्यायाधीश (judge) एनवी रमना और सूर्यकांत तथा हिमा कोहली की पीठ को बताया, मैंने निर्देश ले लिया है. ऐसा बताया गया कि उन्होंने (चीमा) फैसला लिखने के लिए छुट्टी ली थी. इसलिए हमने फैसला किया है कि उन्हें कार्यालय जाने और फैसला सुनाने की अनुमति दी जाएगी, वर्तमान अध्यक्ष जस्टिस वेणुगोपाल को छुट्टी पर भेजा जाएगा. पीठ ने कहा, इस दलील को स्वीकार किया जाता है और (सरकार द्वारा) इसके परिणामी आदेश जारी किए जाएंगे. वर्तमान अध्यक्ष 20 सितंबर तक छुट्टी पर रहेंगे और यह आदेश इस मामले के असाधारण तथ्यों और हालात को ध्यान में रखते हुए पारित किया गया है.

Please share this news

Check Also

तृणमूल कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने भाजपा उम्मीदवार और एक विधायक के साथ धक्का-मुक्की की

कूचबिहार (Bihar) . पश्चिम बंगाल (West Bengal) के कूचबिहार (Bihar) जिले में भारतीय जनता पार्टी …