Thursday , 3 December 2020

कृषक आर्थिक लाभ हेतु फसलों में कीट-व्याधि प्रकोप का नियंत्रण  वैज्ञानिक पद्धति से करें- डॉ. मंजू


उदयपुर (Udaipur). जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ.मंजू चौधरी ने गुरुवार (Thursday) को फॉल आर्मी वर्म व टिड्डी नियंत्रण के फोल्डर्स पेम्पलेट्स का विमोचन किया. सीईओ ने कृषकों का आव्हान किया कि वर्तमान परिदृश्य में समय रहते फसलों में कीट/व्याधि प्रकोप नियंत्रण वैज्ञानिक पद्धति से किया जाएं, जिससे कृषकों को आर्थिक हानि नही होगी तथा वातावरण एवं मानव स्वास्थ्य पर भी विपरीत प्रभाव नही पडेगा.

इस अवसर पर परियोजना निदेशक डॉ. रवीन्द्र वर्मा, कृषि विश्वविद्यालय के कीट विज्ञान विभागाध्यक्ष डॉ. मनोज महला एवं सहायक निदेशक लोक सेवाएं दीपक मेहता आदि उपस्थित रहे. डॉ. वर्मा ने बताया कि विगत वर्ष से फसलों में फॉल आर्मी वर्म कीट का प्रकोप पूरे संभाग में तेजी से बढ़ा है जिससे फसलों में नुकसान होने के कारण कृषको को आर्थिक हानि हो रही है तथा फसल उत्पादन पर भी विपरीत प्रभाव पडा है.

डॉ. महला ने बताया कि कृषि तकनीक प्रबंधन अभिकरण (आत्मा) जिला उदयपुर (Udaipur) द्वारा वित्त पौषित परियोजना ’’बायोईकोलॉंजी एण्ड ईको प्रेन्डली कन्ट्रोल ऑफ न्यू एलियन पेस्ट फॉल आर्मी वर्म ’’अन्तर्गत किये गये अनुसंधान परिणामों की सहायता से फोल्डर्स/पेम्पलेट तैयार किये गये है जिससे फॉल आर्मी वर्म कीट से बचाव के उपाय की जानकारी कृषकों तक सुगम भाषा में पहुॅंचेगी तथां प्रभावी नियंत्रण में सहायता मिलेगी. फसलों में टिड्डी द्वारा संभावित हानि की रोकथाम के उपायों की जानकारी कृषकों तक पहुॅंचाने के लिए भी अनुसंधान के आधार पर फोल्डर तैयार किया गया है.