Saturday , 15 May 2021

बरगी बांध की गैलरी में भरा लबालब पानी

जबलपुर, 02 जनवरी . रानी अवंतीबाई सागर परियोजना में शनिवार (Saturday) की सुबह-सुबह बड़ा हादसा टल गया. बताया गया है कि नौकरशाहों ने पर्दा डालने की पूरी कोशिश की लेकिन मामला देरी से उजागर हो ही गया. कर्मचारियों की सूझबूझ से काम नहीं लेते तो कईयों की जान जा सकती थी. बताया गया है कि बरगी बांध के ब्लॉक नंबर 10 से 17 तक सबसे संवेदनशील माने जाने वाली गैलरी लबालबा पानी से भरकर डूब गई. कर्मचारियों ने अपनी सूझबूझ से विद्युत प्रवाह को तत्काल बंद कर दिया और वहां मौजूद कर्मचारियों की जान बचाई, उसके बाद भी लापरवाही और लालफीताशाही में डूबे अधिकारियों ने मौन साध रखा है. बताया गया है कि लापरवाही की वजह से बरगी बांध की सबसे संवेदनशील माने जाने वाली गैलरी लबालब पानी से भर कर डूब गई और कर्मचारी हाथ पर हाथ धरे तमाशबीन बने देखते रहे स गैलरी में यह पानी रात्रि 8 बजे से लेकर सुबह 8 बजे तक लबालब भरा रहा. सुबह कर्मचारियों ने समर्सिबल मोटर पंप के माध्यम से पानी की निकासी कर पानी को बाहर फेंका कर्मचारियों का कहना है कि 3 सबमर्सिबल मोटर पंप द्वारा सुबह 8 बजे से 4 बजे शाम तक लगातार पानी की निकासी की जाती रही तब जाकर हालात सामान्य स्थिति में आए.

हेल्पर कर रहे ऑपरेटर का काम…………….

प्राप्त जानकारी के मुताबिक कर्मचारी गैलरी के अंदर सामान्य दिनों की तरह काम कर रहे थे तभी अचानक एचआरसी केबल के जलने तथा अंदर स्टार्टर में खराबी आ जाने के कारण बिजली के 2 फेस ही जा रहे थे तभी अचानक विद्युत प्रवाह बंद हो गया और वहां मौजूद कर्मचारी घबरा गया अंधेरा हो गया जिसकी वजह से बाहर जनरेटर रूम की तरफ भागा की जनरेटर चालू करके मोटर चालू कर सके पर बिजली बंद होने के कारण कुछ चंद घंटों में ही गैलरी लबालब पानी से भर कर डूब गई कुछ कर्मचारियों ने अपनी सूझबूझ से ऊपर ट्रांसफार्मर से मेन स्विच गिराकर विद्युत प्रभाव बंद किया नहीं तो कई कर्मचारी करंट लगकर बेमौत मारे जाते प्राप्त जानकारी के मुताबिक गैलरी के अंदर जो भी कर्मचारी गैलरी की मोटरों को ऑपरेट कर रहे हैं वे मोटर पंप ऑपरेटर नहीं है हेल्पर की पोस्ट पर है तकनीकी ज्ञान की कमी होने तथा कर्मचारियों की कमी होने के कारण भी इस तरह के हादसे पहले भी हो चुके हैं.

मुख्यालय से गायब रहते है अधिकारी……………..

गैलरी डूबने से सीधा सीधा यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि कर्तव्य निर्वहन में घोर लापरवाही चल रही है प्राप्त जानकारी के मुताबिक सारे उपयंत्री और आला अधिकारी अपने मुख्यालयों से गायब रहते हैं और रोज जबलपुर (Jabalpur)से अप डाउन करते हैं छोटे कर्मचारियों के भरोसे ही गैलरी के रखरखाव की व्यवस्था रहती है जिसकी वजह से आए दिन विपरीत स्थितियां बनती रहती हैं

होगी करोड़ों की क्षति………….

बताया गया है कि गैलरी में लगी 75 एवं 80 हॉर्स पावर की मोटर तथा पूरा इलेक्ट्रिकल केबिल सिस्टम पानी में डूबने की वजह से गीला हो गया है जिन्हें डेढ़ हजार वाट की हैलोजन लगाकर लगातार सुखाने का प्रयास किया जा रहा है बाद में टेस्टिंग करने से यह पता चलेगा कि कौन सी मोटर खराब हुई है और कौन सी केबल जली है. जानकार बताते हैं कि एक मोटर का बाजार मूल्य लगभग 5 लाख के आसपास है तथा इसका इलेक्ट्रिकल केवल सिस्टम बहुत महंगा आता है अगर सब कुछ खराब हो गया तो करोड़ों रुपए की चपत विभाग को लगेगी इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता.

इनका फोन नहीं उठा……….

घटना की वास्तविक जानकारी के लिये गैलरी के प्रभारी उपयंत्री संदीप अग्रवाल से कई बार संपर्वâ करने की कोशिश की गई, लेकिन उनका फोन रिसीव नहीं हुआ.

जानकारी देने से इंकार…….

इस संबंध में विद्युत यांत्रिक संभाग क्रमांक 2 बरगी बांध के कार्यपालन यंत्री एसके गुप्ता से जब बात की गई तो उन्होंने यह कहते हुये कि अभी उनके पास बहुत काम है बाद में बात करेंगे और कोई भी जानकारी देने से साफ इंकार कर दिया.

इनका कहना है……………

बरगी बांध में गैलरी की पानी में डूबने की जानकारी संज्ञान में आई है इस पूरे मामलें की जांच कराई जायेगी, जो भी दोषी होगा उस पर जवाबदेही तय की जायेगी और विधिसम्मत कार्रवाई की जायेगी. जांच में यह भी तय हो जायेगा की दुर्घटना हुई है या फिर लापरवाही.
हेमंत मौर्य
मुख्य अभियंता विद्युत यांत्रिक नर्मदा भवन भोपाल (Bhopal)

Please share this news