Thursday , 3 December 2020

किसानों-उद्योगपतियों से होगी बिजली बिल की वसूली, चालू महीने में मिला 900 करोड़ जुटाने का लक्ष्य


भोपाल (Bhopal) . पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी अब प्रदेश के ‎किसानों-उद्योगपतियों से बकाया बिल की वसूली करेगी. कंपनी को को नवंबर माह में कुल 900 करोड़ रुपये जुटाना है. बिजली कंपनी के लिए यह अब तक का सबसे बड़ा लक्ष्य है. आमतौर पर किसी भी माह में कंपनी का राजस्व संग्रहण छह से सवा छह सौ करोड़ रुपये के आसपास रहता है.शुक्रवार (Friday) को राजस्व संग्रहण पर चर्चा और कंपनी के दौरे पर प्रमुख सचिव ऊर्जा संजय दुबे भी कंपनी के इंदौर (Indore) स्थित मुख्यालय पहुंचेंगे. बिजली कंपनी के अधीन इंदौर (Indore) और उज्जैन संभाग के 15 जिले आते हैं.

सबसे बड़े राजस्व संग्रहण के लक्ष्य को पूरा करने के लिए कंपनी बीते दिनों से रुकी वसूली शुरू करेगी. इसमें किसान और उद्योगपति पहले नंबर पर है. बिजली कंपनी के अनुसार दोनों संभागों के कृषि कनेक्शनों पर बिजली कंपनी को कुल करीब 100 करोड़ रुपये किसानों के अशंदान के रूप में वसूल करना है. बीते एक दो महीनों में सोयाबीन व अन्य फसल आ चुकी है. ऐसे में यह माह किसानों से वसूली के लिए भी बेहतर है. 900 करोड़ रुपये का लक्ष्य कंपनी के लिए सबसे बड़ा है. इससे पहले बीते वर्ष नवंबर में कंपनी ने एक माह में 832 करोड़ रुपये की वसूली का लक्ष्य हासिल किया था.

इस वर्ष के लक्ष्य को हासिल करने के साथ बिजली कंपनी पुराना रिकॉर्ड भी तोड़ देगी. दरअसल, कोरोना काल के दौरान उद्योगपतियों की मांग पर सरकार ने उद्योगों के बिजली बिलों में जोड़े जाने वाले फिक्स चार्ज को स्थगित कर दिया था. निर्देश दिया था कि सितंबर-अक्टूबर के बाद किस्तों में फिक्स चार्ज ले लिया जाए.इस महीने वसूली लक्ष्य के करीब पहुंचने के लिए अब बिजली कंपनी स्थगित किए उस फिक्स चार्ज की वसूली शुरू करेगी. इसके साथ ही किसानों पर भी जोर रहेगा. किसानों को दिए गए अस्थायी कृषि कनेक्शनों पर सरकार सब्सिडी प्रदान करती है. हालांकि कनेक्शनों के लिए शुल्क का एक हिस्सा किसानों को खुद देना होता है.