रूस से एस-400 खरीदने पर एर्दोगन ने बाइडन को दी सफाई, कहा आपने हमें पैट्रियट सिस्टम नहीं दिया

अंकारा . तुर्की के राष्ट्रपति रेचप तैयप एर्दोगन ने हाल में ही संपन्न नाटो के ब्रसेल्स समिट के दौरान अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन से मुलाकात की. बैठक के दौरान उन्होंने रूस से खरीदी गई एस-400 मिसाइल प्रणाली को लेकर तुर्की की मजबूरियों के बारे में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन को जानकारी देते हुए आग्रह किया कि अब तुर्की के ऊपर लगाए गए प्रतिबंध खत्म कर दिए जाएं.
एर्दोगन ने इशारों-इशारों में बाइडन को एफ-35 प्रोग्राम में तुर्की को फिर से शामिल करने की अपील भी की. अजरबैजान की राजधानी बाकू पहुंचे एर्दोगन ने कहा उन्होंने बाइडन को स्पष्ट बता दिया है कि एस-400 को लेकर अंकारा की स्थिति अपरिवर्तनीय है. उन्होंने कहा कि मैंने बाइडन से कहा है कि एफ-35 या एस-400 के संबंध में तुर्की से कोई नया कदम उठाने की उम्मीद न करें. हमने पहले ही एफ-35 पर अपने हिस्से का काम पूरा कर दिया है.

तुर्की के राष्ट्रपति ने कहा हमने आपको पैट्रियट वायु रक्षा प्रणाली के लिए कहा था, लेकिन आपने हमें यह नहीं दी. इसके ठीक उलट आपने उन पैट्रियट सिस्टम्स को भी हटा लिया, जो हमारे सैन्य ठिकानों पर पहले से तैनात थे. हम क्या कर सकते थे? इसके बाद हमें मजबूरन एस-400 सिस्टम को रूस से खरीदना पड़ा. उल्लेखनीय है कि तुर्की और रूस ने 2017 के अंत में एस-400 मोबाइल वायु और मिसाइल रक्षा बैटरी की चार यूनिट की डिलीवरी के लिए 2.5 बिलियन डॉलर (Dollar) का सौदा किया था.

एर्दोगन ने दावा किया की जो बाइडन तुर्की की यात्रा करना चाहते हैं. उन्होंने यह भी बताया कि अफगानिस्तान से अमेरिका और नाटो सेनाओं की वापसी के बाद से तुर्की वहां अधिक जिम्मेदारी उठाने के लिए तैयार है. उन्होंने कहा तुर्की अमेरिका के साथ रक्षा उद्योग सहयोग के विषय पर अधिक विस्तार से चर्चा करने की योजना बना रहा है. उन्होंने संकेत दिया कि अमेरिका के साथ इस बातचीत में विदेश मंत्रालय, रक्षा मंत्रालय और रक्षा उद्योग के प्रमुख शामिल होंगे.

 

Please share this news