Tuesday , 20 October 2020

कोरोना मरीज की मौत के बाद Isolation center में बवाल, डॉक्टरों को पीटा, 2 गिरफ्तार

डुमरांर. डुमरांव में एक कोविड मरीज के मौत के बाद उसके परिजनों ने कोविड डेडिकेटेड आइसोलेशन सेंटर में जमकर हंगामा किया. इस दौरान वहा तैनात डाॅक्टरों, स्वास्थ कर्मियों व शिक्षकों के साथ मारपीट व बदसलूकी भी की गई. हालांकि परिजन पहले तो मरीज को आइसोलेशन सेंटर ले जाने से साफ मना कर दिए थे और जब तबीयत बहुत अधिक खराब हो गई तो उसे लेकर आइसोलेशन सेंटर के लिए निकले. लेकिन वहा पहुंचते-पहुंचते मरीज ने दम तोड़ दिया था.

इसके बाद परिजन मारपीट पर उतारू हो गए. परिजनों द्वारा दो आइसोलेशन सेंटर के दो डाक्टरों, एक जीएनएम व दो शिक्षकों के साथ मारपीट व बदसलूकी की गई है. इसकी जानकारी मिलते ही आइसोलेशन सेंटर के नोडल पदाधिकारी डॉ. बलवन कुमार ने तत्काल डुमरांव एसडीएम हरेन्द्र राम, एसडीपीओ केके सिंह व डुमरांव थानाध्यक्ष संतोष कुमार को इसकी जानकारी दी. घटना की सूचना मिलते ही प्रशासन तुरंत हरकत में आया तथा एसडीएम व एसडीपीओ के नेतृत्व में रात में बड़ी संख्या में पुलिस (Police) बल आइसोलेशन सेंटर पहुंच मारपीट करने वाले दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया है.

इस संबंध में जख्मी डाक्टर लोकेश कुमार के बयान पर चार नामजद व दो अज्ञात समेत आधा दर्जन लोगों पर एफआईआर (First Information Report) कराया गया है. सोमवार (Monday) को भी प्रशासन द्वारा जब मृतक के शव को कोविड मानकों के तहत अंतिम संस्कार के लिए डुमरांव से बक्सर ले जा रहे थे तो पुराना भोजपुर में एक बार फिर से मृतक के परिजन व ग्रामीण प्रशासन से भीड़ गए तथा शव को एंबुलेंस (Ambulances) से उतरवा अपने मर्जी से दाह संस्कार करने के लिए लेकर चले गए. डाॅ. बलवन ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि ऐसा करने से संक्रमण का खतरा कई गुना (guna) बढ़ सकता है.