Sunday , 7 June 2020
कोरोना का खौफ:अस्पतालों के डॉक्टर अन्य बीमारी से पीड़ित मरीजों का नहीं कर रहे इलाज

कोरोना का खौफ:अस्पतालों के डॉक्टर अन्य बीमारी से पीड़ित मरीजों का नहीं कर रहे इलाज


नवी मुंबई (Mumbai) , . कोरोना का भय डॉक्टरों (Doctors) के बीच इस कदर व्याप्त है कि पहले तो उन्होंने अपने नर्सिंग होम और दवाखाना बंद कर दिया और जो डॉक्टर (doctor) अन्य निजी या सरकारी अस्पताल में कार्यरत हैं वे अन्य बीमारी से पीड़ित मरीजों का इलाज नहीं कर रहे हैं जिससे ऐसे मरीजों की मौत हो रही है. ऐसा ही दुखद मामला नवी मुंबई (Mumbai) में सामने आया है जब एक 15 वर्षीय लड़के की मौत इलाज के अभाव में हो गया.

इस घटना से लोगों के बीच शोक का माहौल तो है ही साथ ही गुस्सा भी है. मिली जानकारी के अनुसार सानपाड़ा इलाके में रहने वाला 15 वर्षीय लड़का पवन किडनी की तकलीफ से काफी परेशान था. पवन के माता-पिता नवी मुंबई (Mumbai) के कुल 12 अस्पतालों से अपने बच्चे के डायलिसिस करने की गुहार लगाई लेकिन किसी अस्पताल के डॉक्टर (doctor) काम नहीं आए. हर किसी को मानो कोरोना का डर सता रहा था. आखिरकार पवन ने दम तोड़ दिया. बताया जाता है कि मृतक बालक के माता पिता ने वाशी मनपा अस्पताल से भी मदद करने की बात कही लेकिन उन्हें डॉक्टरों (Doctors) ने बाहर जाकर डायलिसिस करने की सलाह दी. उक्त बात की जानकारी मिलते ही नवी मुंबई (Mumbai) मनपा आयुक्त अन्ना साहेब मिशाल ने मामले को गंभीरता से लेते हुए कार्रवाई करने का आदेश दिया है.