Tuesday , 25 February 2020
परीक्षा केन्द्रों के सीसीटीवी कैमरा बंद पाये जाने पर होगी दण्डात्मक कार्यवाही: डीएम

परीक्षा केन्द्रों के सीसीटीवी कैमरा बंद पाये जाने पर होगी दण्डात्मक कार्यवाही: डीएम

जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना ने फिरोजगांधी डिग्री कालेज के आडिटोरियम में बोर्ड की परीक्षाओं में अनुचित साधन प्रयोग (नकल) की प्रवृत्ति/सम्भावनाओं पर अंकुश लगाने, परीक्षाओं की शुचिता, पवित्रता, गुणवत्ता एवं विश्वसनीयता तथा विधि-व्यवस्था बनाए रखने के लिए आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि प्रशासन पूरी तरह से नकलविहीन आदि कराने के लिए कटिबद्ध है. माध्यमिक शिक्षा परिषद उत्तर प्रदेश प्रयागराज द्वारा आयोजित वर्ष 2020 की हाईस्कूल-इण्टरमीडिएट बोर्ड परीक्षा जो कि 18 फरवरी से प्रारम्भ होकर 06 मार्च को समाप्त होगी. परीक्षाओं में नकल की रोक-थाम तथा परीक्षाओं को शान्तिपूर्ण ढंग से सम्पन्न कराने की समुचित तैयारियों को दुरूस्त रखा जाये. परीक्षाआंे के सभी परीक्षा केन्द्रों पर सीसीटीवी कैमरा एवं रिकार्डिंग हेतु डीवीआर तथा विद्यालय के चारों ओर सुरक्षित चहारदिवारी एवं मुख्य प्रवेश पर द्वार पर गेट की व्यवस्था अनिवार्य रूप से की गई है. उन्होंने कहा कि सीसीटीवी कैमरा एवं रिकार्डिंग नियामानुसार होना जरूरी यदि किसी भी परीक्षा केन्द्रों पर सीसीटीवी कैमरे बंद पाये जाने पर सम्बन्धित केन्द्र प्रभारी के खिलाफ दण्डात्मक कार्यवाही की जायेगी. उन्होंने समस्त परीक्षा केन्द्र प्रभारी को निर्देश देते हुए कहा कि परीक्षा केन्द्रों पर किसी भी प्रकार की कोई इलेक्ट्रानिक्स गेजेट, कलकुलेटर आदि पूरी तरह से प्रतिबद्धित रखा जाये.
जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना ने जिला विद्यालय निरीक्षक सहित सभी एसडीएम, केन्द्र व्यवस्थापक, सेक्टर मजिस्टेªट, जोनल मजिस्टेªट आदि को निर्देश दिये है. उन्होंने बोर्ड परीक्षाओं में 102 परीक्षा केन्द्र है जिसमें हाईस्कूल हेतु 41084 एवं इण्टरमीडिएट हेतु 32399 कुल 73483 परीक्षार्थी परीक्षा देंगे. परीक्षा को सकुशल सम्पन्न कराने के लिए कलेक्ट्रेट में बने कंट्रोल रूम जिसका नम्बर 0535-2703108 परीक्षा विभाग 0535-2210409 जिला विद्यालय निरीक्षक 9454457315 सभी अधिकारी परीक्षा हेतु सक्रिय रहें. जोनल मजिस्टेªट 7 सेक्टर मजिस्टेªट 20 स्टैटिक मजिस्टेªट 102 को निर्देश दिये है कि वह माध्यमिक शिक्षा परिषद उ0प्र0 प्रयागराज बोर्ड परीक्षा 2020 जनपद में होने वाली परीक्षा को पूरी तरह से नकलविहीन व शान्तिपूर्ण ढंग से सम्पन्न कराये. उन्होंने निर्देश दिये है कि धारण क्षमता अधिक होने, परीक्षा केन्द्र दूरी अधिक होने, अन्य संसाधन न होने की स्थिति, सीसी कैमरा सभी परीक्षा कक्षों में पूर्ण रूप से सक्रिय, जनरेटर की व्यवस्था, विद्युत व्यवस्था, शुद्ध पेयजल, शौचालय, प्रत्येक शिक्षण कक्ष में सीसी कैमरा लगा, विद्यालय में परीक्षा हेतु पर्याप्त फर्नीचर, विद्यालय की फिजिकल कंडीशन, आपत्तियों का निस्तारण, बाउंड्रीबाल, मानक के अनुरूप व्यवस्थायें आदि तथात्मक स्थिति, नवर्निमित कक्ष हर दृष्टि से पूर्ण होनी चाहिए. संवेदनशील परीक्षा केन्द्रों के साथ-साथ गणित, विज्ञान, अंग्रेजी आदि विषयों की परीक्षाओं पर विशेष नजर रख कर ध्यान दिया जाये.
जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना ने सख्त लहजे में कहा कि परीक्षा बहुत सख्त पारदर्शी, गुणवत्तापरक माहौल में सम्पन्न करवाने हेतु उत्तर प्रदेश बोर्ड तथा शासन द्वारा जारी सभी जरूरी दिशा निर्देशों का अनुपालन करते हुए परीक्षाओं को सकुशल सम्पन्न कराना है. परीक्षाओं में नकल की प्रवृत्ति, संभावनाओं पर अंकुश लगाने, परीक्षाओं की शुचिता, गुणवत्ता एवं विश्वसनीयता तथा विधि व्यवस्था बनाए रखने की दृष्टि से उक्त परीक्षाआंे के आयोजन हेतु परीक्षाकेन्द्रों की व्यवस्था के सम्बन्ध में शासन द्वारा नीति निर्धारण करते हुए शासनादेश उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा पूर्व जारी किया जा चुका है. जिसका शत प्रतिशत पालन किया जाना सुनिश्चित है. विद्यालय का निर्धारण निष्पक्षता, पारदर्शीय मानक के अनुरूप ही होना है इसको भली भांति देख ले. उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद बोर्ड द्वारा संचालित हाईस्कूल/इंटरमीडिएट परीक्षा वर्ष 2020 को नकल विहीन, शान्तिमय वातावरण में सम्पन्न कराई जाना शासन की प्राथमिकता में हैै जिसे गंभीरता से लिया जाये. कंटोल रूम की स्थापना कर उनमें अधिक से अधिक लेडलाईन व मोबाईल नम्बर के माध्यम से सक्रिय रखा जाये. परीक्षा केन्द्रों की आनलाइन माॅनिटरिंग किये जाने की व्यवस्था जिला सूचना विज्ञान अधिकारी (एनआईसी) अपने स्तर से नियमानुसार देखकर सभी आवश्यक कार्यवाही पूरी करेंगे. शिक्षक विधायक उमेश द्विवेदी ने भी परीक्षाओं को सकुशल नकलविहीन से सम्पन्न कराने के उद्देश्य से केन्द्रों व्यवस्थापकों आदि को उचित दिशा निर्देश भी दिये है.
इस मौके पर अपर जिलाधिकारी प्रशासन राम अभिलाष, अपर पुलिस अधीक्षक नित्यानन्द राय, आईपीएस प्रशिक्षु पी बंसल, बीएसए पीएन सिंह, जिला विद्यालय निरीक्षक चन्द्रशेखर मालवीय आदि सहित केन्द्र प्रभारी, व्यस्थापक, विकास खण्ड अधिकारी मौजूद रहे.