Monday , 26 July 2021

गुजरात में कोरोना का एक साल पूरा, वैक्सीन के बावजूद खतरा टला नहीं

अहमदाबाद (Ahmedabad) . गुजरात (Gujarat) में कोरोना की दस्तक को आज एक साल पूरा हो गया. पिछले साल मार्च में राजकोट (Rajkot) में कोरोना संक्रमित पहला मरीज सामने आया था. राजकोट (Rajkot) के जंगलेश्वर क्षेत्र में रहनेवाले नदीम नामक युवक की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी. 17 दिन के उपचार के बाद नदीम को स्वस्थ होने के बाद अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया था. बीते एक साल में लोगों की जीवनशैली बदल गई तो कोरोना ने भी अपना तरीका बदल लिया. वैक्सीन आने के बावजूद कोरोना का खतरा टला नहीं है. गत 19 मार्च 2020 को राजकोट (Rajkot) के जंगलेश्वर क्षेत्र में कोरोना का पहला केस दर्ज हुआ था. जिसके बाद अहमदाबाद (Ahmedabad), वडोदरा (Vadodara)और सूरत (Surat) में कोरोना संक्रमित मरीजों के सामने आने का सिलसिला शुरू हो गया.

बीते एक साल के दौरान लोगों ने अपने घरों की छतों पर खड़े होकर थालियां बजाईं, दीप जलाए और त्यौहार भी अपने घरों के बंद दरवाजों में मनाए. विद्यार्थियों ने ऑनलाइन पढ़ाई और नौकरीपेशा लोगों ने भी अपने घर से काम किया. उस घटना को आज एक साल पूरा हो गया है परंतु कोरोना का खतरा अभी पूरी तरह टला नहीं है. बीते एक साल में कोरोना 4433 लोगों को निगल चुका है. पिछले साल दीपावली आते आते कोरोना की रफ्तार कम हुई थी. लेकिन दीपावली त्यौहारों के बाद बाजारों में उमड़ी भीड़ से फिर एक बार कोरोना ने फिर रफ्तार पकड़ी और नवंबर में रोजोना केसों की संख्या 1500 को पार कर गई.

कोरोना के मामले बढ़ने पर सरकार ने सख्त कदम उठाते हुए अहमदाबाद (Ahmedabad), वडोदरा, सूरत (Surat) और राजकोट (Rajkot) में रात्रिकालीन कर्फ्यू लगा दिया. जिसका असर भी हुआ और इस वर्ष फरवरी में कोरोना के रोजाना केसों की संख्या 250 के नीचे पहुंच गई. लेकिन स्थानीय निकाय चुनाव में नेता और समर्थकों की लापरवाही के कारण कोरोना ने फिर एक बार फन उठा लिया. एक साल बाद भी हम जहां खड़े थे वहीं वापस पहुंच गए हैं. गुजरात (Gujarat) में कोरोना की तीसरी लहर शुरू हो गई है. एक साल के बाद की स्थिति पर नजर डालें तो गुजरात (Gujarat) फिलहाल आंशिक लॉकडाउन (Lockdown) की स्थिति में हैं. गुजरात (Gujarat) के चार महानगरों अहमदाबाद (Ahmedabad), वडोदरा, सूरत (Surat) और राजकोट (Rajkot) में रात्रिकालीन कर्फ्यू है. स्कूल-कॉलेज, मॉल, सिनेमा होल, बाग-बगीचे समेत घूमने फिरने के सभी स्थल बंद कर दिए गए हैं. गुरुवार (Thursday) को राज्य में कोरोना के 1276 केस सामने आए और 3 मरीजों की मौत हो गई.

Please share this news