‘भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित करो, वरना मैं सरयू में जल समाधि लूंगा’ – Daily Kiran
Saturday , 4 December 2021

‘भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित करो, वरना मैं सरयू में जल समाधि लूंगा’

 

अयोध्या (Ayodhya) . हिंदू राष्ट्र घोषणा को लेकर संत समाज आंदोलित होता दिख रहा है. संत समुदाय के अग्रणी व्यक्तित्व जगदगुरु परमहंस आचार्य महाराज ने चेतावनी दी है कि आगामी 2 अक्टूबर तक अगर भारत को ‘हिंदू राष्ट्र’ घोषित नहीं किया गया, तो वह जल समाधि ले लेंगे. यही नहीं, आचार्य ने मुस्लिमों और ईसाइयों की राष्ट्रीयता खत्म किए जाने की मांग भी उठा दी है. उन्होंने सीधे केंद्र सरकार (Central Government)से ये मांगें करते हुए चेतावनी दी है. जबकि उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) और उत्तराखंड में अगले साल की शुरुआत में चुनाव होने हैं और अयोध्या (Ayodhya) में राम मंदिर (Ram Temple) के निर्माण का काम तेज़ी से चल रहा है, ऐसे में इस तरह का बयान काफी अहम माना जा रहा है.

आगामी विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) के मद्देनज़र उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में धर्म और जाति के आधार पर सियासत का माहौल पिछले कुछ दिनों से बना हुआ है. एक तरफ, मुस्लिम वोटों को लेकर राजनीति की खबरें हैं, तो दूसरी तरफ जाति के आधार पर भाजपा, सपा और बसपा के बीच वोट बैंक (Bank) की सियासत जारी है. ऐसे समय में, ‘हिंदू राष्ट्र’ का मुद्दा जगदगुरु परमहंस आचार्य महाराज ने उठा दिया है. उन्होंने चेतावनी दी कि यह घोषणा नहीं की गई तो वह सरयू नदी में जल समाधि ले लेंगे. यह चेतावनी देने वाले परमहंस आचार्य से जब पत्रकारों ने सवाल किए तो उन्होंने बताया कि सभी संस्थानों के लोग मिलकर 1 अक्टूबर को सनातन धर्म संसद का आयोजन करेंगे और 2 अक्टूबर को इन भावनाओं को दरकिनार किया गया तो ‘मैं जल समाधि ले लूंगा. हो सकता है कि मुझे श्रद्धांजलि देते हुए मोदी जी भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित कर दें.’ जब संत परमहंस से पूछा गया कि सभी धर्मों के इस देश में अगर धर्म के नाम पर लोगों की राष्ट्रीयता खत्म की जाएगी, तो लोकतंत्र कैसे बचेगा? इस पर उन्होंने कहा, ‘संविधान है, अदालतें हैं, लोकतंत्र है. जब तक हिंदू बहुमत में रहेंगे, इस देश में सब कुछ रहेगा.’ संत परमहंस वही हैं, जिन्होंने कुछ ही महीने पहले पीएम नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री को पत्र लिखकर अपनी ही मौत की खबर देकर सनसनी मचाई थी. गौरतलब है कि आचार्य के इस बयान से पहले राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (Rashtriya Swayamsevak Sangh) के प्रमुख मोहन भागवत ने भी हिंदू राष्ट्र का मुद्दा और मांग उठाते हुए कहा था कि सभी 130 करोड़ भारतीय हिंदू ही हैं क्योंकि सभी के पूर्वज समान हैं. उन्होंने कहा था, ‘संघ जब हिंदू राष्ट्र की बात कहता है तो उसके मन में किसी सत्ता की लालसा नहीं होती. इस राष्ट्र के स्वत्व का सार हिंदुत्व है. हिंदू कहने से हम अपनी राष्ट्रीय पहचान ही ज़ाहिर करते हैं.’

Check Also

शनिश्चरी अमावस्या एवं सूर्य ग्रहण आज एक साथ; भारत में नहीं दिखेगा सूर्य ग्रहण का असर

भोपाल (Bhopal) . आज शनिश्चरी अमावस्या एवं सूर्यग्रहण एक साथ है. इस अवसर पर राजधानी …