Friday , 16 April 2021

15 जनवरी के बाद न्यायधानी में पहुँच सकती है कोरोना वैक्सीन

बिलासपुर (Bilaspur) . कोरोनावैश्विक महामारी (Epidemic) ने पूरे विश्व को सन 2020 से अपनी चपेट में ले रखा है.. महामारी (Epidemic) के 1 वर्ष बाद भी आज भी दुनिया कोरोना वैक्सीन के इलाज में जुटी हुई है वहीं नए साल के साथ ही भारत में दो-दो वैक्सीन को मंजूरी मिलने के बाद एक अलग उसका देश भर में देखने को मिल रहा है वही देशभर के स्वास्थ्य अमले द्वारा वैक्सीनेशन की तैयारियां भी पूरी की जा चुकी है छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) की न्यायालय बिलासपुर (Bilaspur) में भी पिछले दिनों ड्राई रन के बाद वैक्सीनेशन की तैयारियां पूरी कर ली गई हैं.. जिले के स्वास्थ्य अमले ने 55 केंद्रों को चयनित कर 254 वैक्सीनेटर को कोरोना वैक्सीन लगाने के लिए पूरी तरह प्रशिक्षित कर लिया है.

कोवैक्सीन और कोवीशिल्ड जैसे कोरोना वैक्सीन को आपातकाल में इस्तेमाल की मंजूरी मिलने के बाद अब बड़ी चुनौती इसे देश के अलग-अलग जिलों में भेजने की हो गई है.. वहीं वैक्सीन लगाने के बाद भी सावधानी बरतने की बात अधिकारियों द्वारा कही जा रही है.. बिलासपुर (Bilaspur) जिला स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि.. कोरोना वैक्सीन के लगने की समय सीमा 28 दिनों की रहेगी.. सबसे पहले जिले के 18 हजार से अधिक फ्रंटलाइन वॉरियर्स स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को वैक्सीन लगाया जाएगा.. वैक्सीन लगाने के बाद करीब आधा घंटा उन्हें ऑब्जर्वेशन में रखा जाएगा.. वही वैक्सीन लगाने की बात करें तो एक व्यक्ति लगाने में करीब 6 से 7 मिनट का समय वैक्सीनेटर को लगेगा.. वहीं वैक्सीन लगाने वाली एक टीम में डॉक्टर (doctor) और एनएम को मिलाकर करीब 6 वैक्सीनेटर रहेंगे.

 

Please share this news