Monday , 1 June 2020
श्रीगंगानगर में कोरोना ने दी दस्तक, दिल्ली से बिना अनुमति पहुंचा युवक

श्रीगंगानगर में कोरोना ने दी दस्तक, दिल्ली से बिना अनुमति पहुंचा युवक

श्रीगंगानगर.  ग्रीन जोन में चल रहे श्रीगंगानगर में 59 दिन बाद कोरोना ने प्रवेश कर ही लिया. दिल्ली से बिना अनुमति के 31 वर्षीय  एक युवक 17 मई को श्रीगंगानगर पहुंचा था. युवक शहर के बसंती चौक से सटी ब्रह्म कालोनी का निवासी है.

सूत्रों के अनुसार युवक दिल्ली के जिस शोरूम ज्वैलरी में काम करता है. वहां उसके शोरूम मालिक व अन्य स्टाफ कोरोना संक्रमित थे, और उसकी भी तबीयत खराब थी. बावजूद इसके वहां उसने जांच नहीं करवाई. युवक जब श्रीगंगानगर अपने घर पहुंचा, तब उसके परिजन  उसकी खराब तबीयत के कारण अगले दिन 18 मई को उसे सिविल अस्पताल के सामने एक डॉक्टर के पास ले गए. वहां डॉक्टर ने एक्सरे व सीबीसी जांच करवाकर उसे अस्पताल रेफर कर दिया. जहाँ 19 मई को उसका कोरोना सैंपल लेकर बीकानेर मेडिकल कॉलेज भेज दिया गया. 20 मई की शाम रिपोर्ट के पॉजिटिव आने पर प्रशासन में हड़कंप मच गया.  जिसके बाद कॉलोनी में में कर्फ्यू लगा दिया गया है.

एसडीएम उम्मेदसिंह रत्नू ने बताया कि दमकल की गाड़ियां कॉलोनी की हर गली को सेनेटाइज कर रही हैं. पीएमओ डा.केएस कामरा ने बताया कि 20 मई ,बुधवार रात ही युवक के माता-पिता, भाई-भाभी, बहन और भांजी को जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया है. उनके भी जाँच लिए गए सैंपल लेकर गुरुवार सुबह बीकानेर लैब भेज दिए गए हैं. साथ ही उस प्राइवेट डॉक्टर, लैब संचालक व उनके स्टाफ को होम क्वारेंटाइन कर दिया है. युवक अपने पिता की रेडिमेड दुकान पर बैठा  था. इसके अलावा शहर में कहां-कहां घूमा और किन-किन लोगों के संपर्क में आया था. पुलिस  इसका पता लगाने में जुटी है.

सीएमएचओ डॉ  मेहरड़ा के अनुसार युवक जमींदारा प्राइड की प्राइवेट बस जो सुरेंद्रा के 3 और महाराजा गंगासिंह डेंटल कॉलेज के 9 छात्रों को आसाम छोड़कर खाली लौट रही थी, उसमें दिल्ली से सवार होकर चोरी छिपे श्रीगंगानगर पहुंचा था. बस में इसके साथ दो चालक और एक खलासी ही सवार थे. इन तीनों को भी जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है. गौरतलब है कि स्वास्थ्य विभाग  युवक व बस के चालकों एवं परिचालक पर मुकदमा दर्ज करवाएगा.