Thursday , 29 July 2021

जीवन  में संकल्पना, विश्वास, रचनात्मकता, उपलब्धि के साथ आगे बढ़े – डाॅ. नरेन्द्र सिंह राठौड

उदयपुर (Udaipur). सामुदायिक एवं व्यावहारिक विज्ञान, महाराणा प्रताप कृषि एवं प्रैाद्यौगिकी विश्वविद्यालय उदयपुर (Udaipur), कि चतुर्थ वर्ष छात्राओं द्वारा  ग्रामीण जागरूकता कार्यानुभव कार्यक्रम (रावे) का समापन गांव मदार के राजकीय विद्यालय में किया गया.

समारोह के मुख्य अतिथि डाॅ. नरेन्द्र सिंह राठौड़, कुलपति, महाराणा प्रताप कृषि एवं प्रैाद्यैागिकी विश्वविद्यालय उदयपुर (Udaipur), ने छा़त्राओं के प्रयास कि सराहना करते हुए कहा कि ग्रामीण महिलाओं को ये सभी उत्पादों को बनाकर अपने स्तर पर कोई लधु-उद्योग शुरू करना चाहिए और स्वयं स्वावलंबी बनकर दूसरो को भी रोजगार प्रदान करना चाहिए. उनके द्वारा छात्राओं और ग्रामीण महिलाओं को जीवन  में संकल्पना, विश्वास, रचनात्मकता, उपलब्धि के साथ जीने के चार मूल मंत्र  भी बताए गए.

महाविद्यालय कि अधिष्ठाता  डाॅ. मीनू श्रीवास्तव ने कहा  कि इस तरह के प्रशिक्षण कार्यक्रम के द्वारा न सिर्फ ग्रामीण महिलाओं के ज्ञान व कौशल में वृद्धि होगी अपितु महाविद्यालय की छात्राओं में भी ग्रामीण परिवेश में जीवन यापन करते हुए निर्वाह करने कि क्षमता पैदा होगी.

 कार्यक्रम के मुख्य  अतिथि डाॅ. नरेन्द्र सिंह राठौड एवं विशिष्ट अतिथि श्रीमती लता राठौड़ ने प्रतियोगिता के विजताओं को पुरस्कृत किया. कार्यक्रम के दौरान वार्ड़ पंच शान्ता जी और राजी बाई  ने भी अपने अनुभवों को साझा किया. 10 सप्ताह तक आयेजित हुए  ग्रामीण जागरूकता कार्यानुभव कार्यक्रम के बारे में डाॅ प्रकाश पंवार ने बताया.

इस कार्यक्रम में छात्राओं द्वारा ग्रामीण महिलाओं को पौष्टिक व्यंजन, बंधेज, छपाई, रंगोली व अल्पना, बेग बनाना और मेहन्दी, चाबी के छल्ले, साबुन बनाना आदि कार्य सीखाए गए. बच्चो को चित्रकारी,  योगा व ग्रमीण परिवेश में रहते हुए सक्षम बननें के उपाय भी सिखाए गए.  कोविड़-19 महामारी (Epidemic) को ध्यान में रखते हुए हाथ धोने का हेंड़वाश व मास्क बनाना भी सिखया गया. स्वच्छता और  सोशल डिस्टेन्सिग  सम्बन्धि महत्वपूर्ण मुद्दद्दो कि चर्चा भी की.

सभी प्रशिक्षण कार्यक्रम  पंाचो विभागो कि विभागाध्यक्ष डाॅ. सुधा बाबेल, डा.ॅ प्रकाश पंवार, डाॅ. सीमा द्वीवेदी, डाॅ. गायत्री तिवारी, डाॅ. सरला लखावत के निर्देशन में आयोजित किए गए.  समापन समारोह का  संचालन महाविद्यालय कि  छात्रा  सु बतुल कानोड़वाला समपुर्ण कार्यक्रम का ब्योरा सु रूपाली जैन  व धन्यवाद सु हर्षिता बोर्दिया ने किया.

Please share this news