Tuesday , 20 October 2020

कोचिंग संचालक प्रसासन के आदेश को दिखा रहे ठेंगा


उमरिया . कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए जहां एक ओर सरकार (Government) ने सभी शिक्षण संस्थानों को बंद कर रखा है जिसके की किसी प्रकार का संक्रमण ना फैले उसके वावजूद उमरिया में इन दिनों कोचिंग का व्यापार अच्छा फल फूल रहा है वही इन संचालकों द्वारा 45 से 50 बच्चो को एक साथ बैठाकर पढ़ाया जाता है जिससे कि कही ना कही कोई बड़ी घटना को अंजाम देने के फिराक में है ये ट्यूसन,कोचिंग संचालक,वही अगर समय पर प्रसासन द्वारा कार्यवाही नही की जाती तो निश्चित ही भयावह परिणाम नगर की जनता को भुगतना पड़ेगा.

क्या है मामला

उमरिया नगर के घंघरी नाका स्थित ओवर ब्रिज के पास ही लछ्मी कांत गुप्ता के द्वारा बेखौफ होकर कोचिंग का संचालन किया जा रहा है वही इस कोचिंग सेंटर में अगर सोसल डिस्टेंस की बात करे तो यहाँ पर 45 से 50 बच्चो को एक साथ एक कमरे में बैठाकर कोचिंग क्लास चलाई जा रही है जिसमे दूर दूर से आये हुए जिले के बच्चे कोचिंग क्लास अटेंड करने आते है

मॉर्डन स्कूल करकेली में पदस्थ है शिक्षक

कोचिंग सेंटर के संचालक लछ्मी कांत गुप्ता जी सरकारी अध्यापक है और मोटी पैमेंट में मॉर्डन स्कूल करकेली में पदस्थ है वही सरकारी नौकरी होने के बाद भी कमाई के चक्कर मे कोचिंग क्लास चलाकर मोटी आमदनी बढ़ाने में मशगूल है और कमाई के चक्कर मे कोविड19 को भुलाकर मनमाने तरीके से कोचिंग क्लास का संचालन इनके द्वारा किया जाता है

भोगना पड़ सकता है खतरनाक परिणाम

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए जहां प्रसासन अलर्ट है एवं रोकथाम के लिए हर संभव प्रयास कर रहा है की बीमारी कही फैलने ना पाए वही कोचिंग सेंटर के संचालक के द्वारा प्रसासन को चैलेंज देते हुए कोचिंग क्लास का संचालन कर रहा है

कार्यवाही की मांग

कोरोना काल मे संक्रमण से नगर को सुरक्षित रखने और सोसल डिस्टेंस मेंटेन करने की वजह से जिले के सभी विद्यालय बन्द है और ऑनलाइन एवं अन्य दूसरे माध्यमो से छात्र (student) घर मे ही शिक्षा ग्रहण कर रहे है वही इस कोचिंग सेंटर के संचालक की दबंगई हावी है बिना किसी परमिशन और नियम विरुद्ध कोचिंग क्लास का संचालन किया जा रहा है जिसमे नगर के प्रबुद्ध जनो ने प्रसासन से मांग की है कि कोचिंग संचालक की मनमानी पर रोक लगाई जाकर कोचिंग क्लास बन्द कराई जाए जिससे कि बीमारी फैलने का खतरा उत्पन्न ना ही

क्या कहते है नियम

सरकार के नियम के अनुसार कोरोना (Corona virus) से बचाव के लिए सरकार (Government) ऐतिहातिक कदम बरत रही है उसके बावजूद भी सभी लोगों से सुरक्षित रहने के लिए और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए कहा गया है और अगर कोई इसका उल्लंघन करता है तो उसके खिलाफ कडी कानूनी कार्यवाही के भी नियम हैं वही शिक्षा विभाग ने पहले ही यह आदेश जारी कर रखा है कि कोई भी शासकीय शिक्षक कोचिंग सेंटर का संचालन किसी भी तरीके से नहीं कर सकता वही करोना कॉल में सोशल डिस्टेंस मेंटेन हो इसी वजह से ही विद्यालय एवं अन्य भीड़भाड़ वाले संस्थान बंद है एवं कोचिंग सेंटरों के लिए कोई अलग से आदेश नहीं है.