Wednesday , 14 April 2021

2021 के पहले दिन राज्य के नागरिकों को मुख्यमंत्री का खास तोहफा

अहमदाबाद (Ahmedabad) . मुख्यमंत्री (Chief Minister) विजय रूपाणी ने नूतन वर्ष 2021 के पहले दिन राज्य के सामान्य नागरिकों के लिएखास तोहफेकी घोषणा करते हुए कहा कि सार्वजनिक परिवहन सेवा के लिए गुजरात (Gujarat) राज्य सड़क परिवहन निगम (एसटी निगम) नई 1000 बसों की खरीदी करने की खरीदी करेगा. मुख्यमंत्री (Chief Minister) शुक्रवार (Friday) को गांधीनगर (Gandhinagar) से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए एसटी निगम की ओर से तलोद, सिद्धपुर, अंकलेश्वर, चूड़ा और दियोदर में कुल 12.89 करोड़ रुपए की लागत से निर्मित पांच बस स्टेशन और ऊना में 2.36 करोड़ रुपए के खर्च से निर्मित डिपो-वर्कशॉप के ई-लोकार्पण के अवसर पर संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि ये 1000 बसें आगामी जून महीने से राज्य के यात्रियों (Passengers) की सेवा में कार्यरत हो जाएंगी. ये नई एक हजार बसें अद्यतन टेक्नोलॉजी युक्त बीएस-6 मानक वाली होंगी जिससे वायु प्रदूषण कम होने के कारण पर्यावरण की रक्षा में मदद मिलेगी. इस संदर्भ में रूपाणी ने आगे यह भी ऐलान किया कि नागरिकों की स्वच्छ और पर्यावरण अनुकूल परिवहन सेवा के लिए एसटी निगम नई 50 इलेक्ट्रिक बसें भी इस वर्ष सड़कों पर उतारेगा. उन्होंने राज्य में वसई, कोटड़ासांगाणी, भाणवड़, महुवा, तुलसीश्याम, धानपुर, केवड़िया कॉलोनी, सरा, कल्याणपुर और टंकारा सहित 10 स्थानों पर कुल 18.41 करोड़ रुपए की लागत से निर्मित होने वाले बस स्टेशन का ई-शिलान्यास भी किया. नूतन वर्ष के पहले दिन ही कुल मिलाकर 33.66 करोड़ रुपए के जनसेवा के प्रकल्प मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने सामान्य नागरिकों-बस यात्रियों (Passengers) की सेवा में भेंट किए. इस अवसर पर उप मुख्यमंत्री (Chief Minister) नितिनभाई पटेल महेसाणा जिले के वसई से तथा राज्य मंत्रिमंडल के सदस्य विभिन्न लोकार्पण और शिलान्यास समारोह स्थल पर जुड़े थे. मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने साफ कहा कि गुजरात (Gujarat) में पिछले दो दशक से शिक्षा, स्वास्थ्य, जलापूर्ति तथा जिला कार्यालयों में कार्यसंस्कृति में 360 डिग्री चेंज लाकर सामान्य गरीब और वंचित व्यक्ति केंद्रित सेवाएं विकसित की हैं. कलक्टर कार्यालय या पंचायत कार्यालयों को सेवासदन के तौर पर स्थापित कर कॉरपोरेट लुक जैसा कामकाज का माहौल बनाया है. उन्होंने विश्वास जताया कि इस बदलाव का सीधा फायदा आम लोगों को मिल रहा है. उन्होंने इसी संदर्भ में कहा कि एसटी निगम की सेवाओं में भी आमूलचूल परिवर्तन लाया गया है.

मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने कहा कि अतीत में बसें जर्जरित स्थिति में होती थी, एसटी बस स्टेशनों की हालत भी खस्ताहाल होती थी और परिस्थिति ऐसी थी कि एसटी बसों के आने-जाने का कोई समय ही निर्धारित नहीं होता था. उन्होंने कहा कि पिछले दो दशक में हम अच्छी बस-अच्छी सेवा के सूत्र के साथ आगे बढ़े हैं. उन्होंने कहा कि राज्य के बस स्टेशनों को बस पोर्ट बनाया है. आरामदायक वातानुकूलित प्रतीक्षा कक्ष, बुजुर्गों और जरूरतमंदों के लिए व्हील चेयर और सामान वहन करने के लिए ट्रॉली जैसी यात्री सुविधाओं की उपलब्धता तथा प्रतिष्ठित उत्पादों के बिक्री स्टॉल्स के साथ बस स्टेशनों को एयरपोर्ट जैसा बना दिया है. रूपाणी ने नूतन वर्ष 2021 के पहले दिन को राज्य की सामान्य जनता, गरीब और मध्यम वर्ग के लोगों की सुख-सुविधा के कार्यों का दिन करार देते हुए कहा कि हमारे लिए एसटी सेवा का साधन है न कि मुनाफा कमाने का जरिया. उन्होंने कहा कि एसटी सेवाओं का उद्देश्य नुकसान उठाकर भी राज्य के आम लोगों और दूरदराज के गांवों में रहने वाले व्यक्तियों को अच्छी और सस्ती परिवहन सेवा देना है. उन्होंने कहा कि गुजरात (Gujarat) एसटी निगम के प्रतिदिन 45 हजार से अधिक फेरों के संचालन में से 30 हजार से अधिक फेरे गांव में लगाए जाते हैं और प्रत्येक गांव को कम से कम दो फेरे रोजाना मिले ऐसा आयोजन किया गया है.

मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने कहा कि एसटी जनता की सेवा का साधन है और छात्रों, बुजुर्गों एवं दिव्यांगों को कंसेशन सेवा देने के साथ ही गरीब एवं जरूरतमंद लोगों को विवाह जैसे अवसरों पर राहत दर पर बस मुहैया कराने की सहूलियत जन सेवा का श्रेष्ठ विकल्प बनी है. एसटी बस की सेवाओं की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि बाढ़, तूफान और कोरोना संक्रमण जैसी प्राकृतिक आपदा के दौरान भी लोगों को सुरक्षित स्थल पर पहुंचाने तथा जरूरी सेवा-सुविधा के लिए एसटी हरदम तैनात रहती है. उन्होंने कहा कि इस सरकार ने एसटी की सेवाओं में भी समयानुकूल परिवर्तन कर उसे यात्री उन्मुख बनाया है. एसटी बसों में वोल्वो, स्लीपर कोच, मिनी बस तथा निर्धारित समय सारिणी के मुताबिक बस संचालन के लिए जीपीएस सिस्टम भी एसटी बसों में कार्यरत किया है. मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने कहा कि लोगों को बेहतर सुविधा युक्त, सुरक्षित, सरल और सस्ता यातायात विकल्प उपलब्ध कराने वाली राज्य सड़क परिवहन निगम की चलती-फिरती बसें सरकार की जनहित की छवि का रूप है.

Please share this news