Friday , 16 April 2021

मुख्यमंत्री बोले : जिले बनाएं अपनी विकास योजना

कलेक्टर्स-कमिश्नर्स (Nurse) कॉन्फ्रेंस में निर्देश

सागर . मुख्यमंत्री (Chief Minister) शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रत्येक जिले की पृथक विकास योजना बनाई जाए. आगामी एक अप्रैल से इसका क्रियान्वयन प्रारंभ होगा. नगरों के साथ ग्राम पंचायत स्तर पर भी विकास का प्लान बनाया जाए.

cm-conference

मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने मंत्रालय में वर्चुअल कलेक्टर्स, कमिश्नर्स (Nurse) कान्फ्रेंस के प्रथम सत्र में कहा कि यह आवश्यक है कि राज्य में गुंडागर्दी, नक्सलवाद, तस्करी आदि की समाप्ति के लिए तात्कालिक और दीर्घकालिक प्रयास हों. कॉन्फ्रेंस में मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस और अन्य अधिकारी उपस्थित थे.

मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने कहा कि नागरिकों को विकास का पूरा लाभ दिलवाने के साथ ही अच्छी कानून व्यवस्था के लिए राज्य सरकार (State government) संकल्पबद्ध है. जिला विकास योजना के निर्माण के साथ ही सुशासन, आधुनिक तकनीक का अधिकतम उपयोग, योजनाओं का बेहतर क्रियान्वयन, नागरिकों को समय पर आवश्यक सेवाएं देने, सुदृढ़ कानून व्यवस्था, सभी तरह के माफिया को नेस्तनाबूद करने की हमारी प्राथमिकता है. सभी कलेक्टर्स, कमिश्नर्स (Nurse) और शासन स्तर के अधिकारी इन लक्ष्यों के अनुकूल कार्य करते हुए परफार्म करें. अच्छा कार्य प्रदर्शन करने वाले ही पदों पर कायम रहेंगे.

cm-video-conference

कोरोना वैक्सीन

मुख्यमंत्रीने कहा कि सभी जिले नागरिकों को कोरोना वैक्सीन लगाने की तैयारियां करें. सबसे पहले प्राथमिकता वाले समूह टीके लगवाएंगे. मुख्यमंत्री (Chief Minister) चौहान ने कहा कि उन्होंने तय किया है कि वे पहले टीका नहीं लगवाएंगे. प्राथमिकता समूह को पहले इसका लाभ मिलना चाहिए.

चौहान ने कलेक्टर्स को निर्देश दिए कि टीकाकरण के लिए स्वास्थ्य विभाग के अमले के प्रशिक्षण बाद आगे की प्रक्रिया को गति प्रदान करना है. टीकाकरण की व्यवस्था को लागू करने के लिए जिला स्तर के अमले को सक्रिय होना है.

मिलावट के विरुद्ध कार्यवाही जारी रहे

मुख्यमंत्री (Chief Minister) चौहान ने कहा कि किसी भी स्थिति में मिलावट करने वालों को न बख्शें. मटर में हरा रंग, मिर्च में लाल रंग घातक है. आलू में एसिड मिलने का काम इंदौर (Indore) में हो रहा था. इन मामलों का स्वास्थ्य विभाग फालोअप करे. मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने कहा कि इंदौर (Indore) में मिलावट के लिए दोषी फैक्ट्री तोड़ी गई, ये अच्छी कार्यवाही है.

कॉन्फ्रेंस में मिलावटी खाद्य पदार्थो के विरूद्ध संचालित अभियान की जानकारी देते हुए बताया गया कि नीमच, देवास, उज्जैन, भिंड (Bhind), अशोकनगर और मुरैना जिलों में अच्छी कार्यवाही हुई है. मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने जिलावार जानकारी ली. उन्होंने अच्छा कार्य करने वालों को बधाई और पिछड़े जिलों को अधिक ध्यान देने के निर्देश दिए.

समय पर खाद्यान्न न बांटना पाप

मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने कहा कि समय पर खाद्यान्न का वितरण न करने वालों पर कलेक्टर (Collector) सख्त कार्यवाही करें. सतना में उपभोक्ता भंडार संचालक पर कार्यवाही की तरह अन्य जिले भी सतत रूप से करें. खाद्यान्न की कालाबाजारी गरीबों के पेट पर लात मारने का जुर्म है. ऐसे अपराधियों को बिल्कुल न छोड़ें. कॉन्फ्रेंस में बताया गया कि राशन और खाद्यान्न की कालाबजारी के विरुद्ध एक्शन लेने वाले प्रदेश के प्रथम पाँच जिलों में दतिया, मुरैना, छतरपुर, ग्वालियर (Gwalior), सागर शामिल हैं.


News 2021

Please share this news